Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 1 min read

*मिला दूसरा संडे यदि तो, माँ ने वही मनाया【हिंदी गजल/गीतिका 】*

मिला दूसरा संडे यदि तो, माँ ने वही मनाया【हिंदी गजल/गीतिका 】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
मिला दूसरा संडे यदि तो, माँ ने वही मनाया
कहाँ सुनिश्चित दिवस एक, माँ के हिस्से में आया
(2)
कभी आठ है मई कभी, नौ दस ग्यारह या बारह
मई माह रविवार दूसरा, ऐसे माँ ने पाया
(3)
छुट्‌टी है रविवार अगर, तो टाइम तुमको देंगे
दुनिया में बेटों ने अपनी, माँ को यह बतलाया
(4)
चलो गिफ्ट देने चलते हैं, वृद्धाश्रम में माँ को
संडे का यों बहू और, बेटे ने प्लान बनाया
(5)
खुद पकवान बनाती है, पर अक्सर चख-भर पाती
खुद खाने से पहले माँ ने, सबको खूब खिलाया
—————————————————
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

521 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
परिसर खेल का हो या दिल का,
परिसर खेल का हो या दिल का,
पूर्वार्थ
पल परिवर्तन
पल परिवर्तन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जिंदा होने का सबूत
जिंदा होने का सबूत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
संकट मोचन हनुमान जी
संकट मोचन हनुमान जी
Neeraj Agarwal
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
*भारत जिंदाबाद (गीत)*
Ravi Prakash
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
Buddha Prakash
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
अमर काव्य
अमर काव्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मेरे विचार
मेरे विचार
Anju
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
!! फूल चुनने वाले भी‌ !!
Chunnu Lal Gupta
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
सत्साहित्य कहा जाता है ज्ञानराशि का संचित कोष।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
मेरे छिनते घर
मेरे छिनते घर
Anjana banda
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
कसम, कसम, हाँ तेरी कसम
gurudeenverma198
समझदार बेवकूफ़
समझदार बेवकूफ़
Shyam Sundar Subramanian
पीर मिथ्या नहीं सत्य है यह कथा,
पीर मिथ्या नहीं सत्य है यह कथा,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
वो पेड़ को पकड़ कर जब डाली को मोड़ेगा
Keshav kishor Kumar
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
"आँसू"
Dr. Kishan tandon kranti
पितृ दिवस ( father's day)
पितृ दिवस ( father's day)
Suryakant Dwivedi
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*प्रणय प्रभात*
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
आप नहीं तो ज़िंदगी में भी कोई बात नहीं है
Yogini kajol Pathak
जन-मन की भाषा हिन्दी
जन-मन की भाषा हिन्दी
Seema Garg
संभव कब है देखना ,
संभव कब है देखना ,
sushil sarna
पितृ दिवस
पितृ दिवस
Ram Krishan Rastogi
मन मूरख बहुत सतावै
मन मूरख बहुत सतावै
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...