Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jan 2024 · 1 min read

मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है

मालूम नहीं क्यों, ऐसा होने लगा है।
मिलने को तुमसे, दिल मचलने लगा है।।
बढ़ती जा रही है, दिल की बेक़रारी।
क्यों प्यार तुमसे, दिल करने लगा है।।
मालूम नहीं क्यों ——————–।।

देखा नहीं जबकि, अभी हमने तुमको।
आने लगे हैं फिर भी, तेरे ख्वाब हमको।।
क्या हाल होगा, जब हम तुम मिलेंगे।
ख्यालों में गुम, दिल यह रहने लगा है।।
मालूम नहीं क्यों ——————–।।

बनाता है तस्वीर तेरी, मेरा यह दिल।
करता है इंतजार तेरा, मेरा यह दिल।।
किस राह से तुम, मुझसे आवोगे मिलने।
फूलों से राह तेरी, दिल सजाने लगा है।।
मालूम नहीं क्यों ——————–।।

टूटे नहीं यह रिश्ता, उम्रभर अपना।
छूटे नहीं यह साथ, उम्रभर अपना।।
कभी कम नहीं हो, यह प्यार अपना।
ऐसी दुहा, दिल यह करने लगा है।।
मालूम नहीं क्यों ——————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी. आज़ाद
तहसील एवं जिला – बारां (राजस्थान )

Language: Hindi
Tag: गीत
96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2537.पूर्णिका
2537.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
धानी चूनर में लिपटी है धरती जुलाई में
Anil Mishra Prahari
*वानर-सेना (बाल कविता)*
*वानर-सेना (बाल कविता)*
Ravi Prakash
परिंदा
परिंदा
VINOD CHAUHAN
रिवायत दिल की
रिवायत दिल की
Neelam Sharma
आप अपना कुछ कहते रहें ,  आप अपना कुछ लिखते रहें!  कोई पढ़ें य
आप अपना कुछ कहते रहें , आप अपना कुछ लिखते रहें! कोई पढ़ें य
DrLakshman Jha Parimal
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
प्रकृति सुर और संगीत
प्रकृति सुर और संगीत
Ritu Asooja
शिक्षक श्री कृष्ण
शिक्षक श्री कृष्ण
Om Prakash Nautiyal
ज़िंदगी के रंगों में भरे हुए ये आख़िरी छीटें,
ज़िंदगी के रंगों में भरे हुए ये आख़िरी छीटें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
विषधर
विषधर
आनन्द मिश्र
मेरे होंठों पर
मेरे होंठों पर
Surinder blackpen
तस्वीरें
तस्वीरें
Kanchan Khanna
दिन भर जाने कहाँ वो जाता
दिन भर जाने कहाँ वो जाता
डॉ.सीमा अग्रवाल
दगा और बफा़
दगा और बफा़
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
कवि दीपक बवेजा
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
"तोड़िए हद की दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
जला दो दीपक कर दो रौशनी
जला दो दीपक कर दो रौशनी
Sandeep Kumar
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
छपास रोग की खुजलम खुजलई
छपास रोग की खुजलम खुजलई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
जिस तरह मनुष्य केवल आम के फल से संतुष्ट नहीं होता, टहनियां भ
Sanjay ' शून्य'
हर रोज याद आऊं,
हर रोज याद आऊं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आपसा हम जो दिल
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
कह न पाई सारी रात सोचती रही
कह न पाई सारी रात सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
Loading...