Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 2 min read

मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई🙏✍️🙏

मार गई मंहगाई कैसे होगी पढ़ाई
🔥🌿🌿🔥🌿🙏🙏🌿🌿

मां बाप का होता निज सपना
पढ़ा लिखा बच्चों को बनाऊंगा
समझदार भारत का जन अपना
मार रहा मंगाई कैसे हो भरपाई
आग उगल मजबूर करती महंगाई

पढ़ाई के खातिर बेची हमने घर
द्वार बची खुची जमीन जायदाद
गिरवी रख भरा फीस बच्चों का
दिनरात मजबूरी में पलरहा निज

पेट परिवार कीमत बड़ी चुका रहा
पढ़ाई का कमर तोड़ महंगाई में
छुट रहे अपने पराए रिश्ते नाते
एक साथ ही यह सोच मजबूरी में

मांग न कर दे कर्ज कभी छोड़
इसे अभी भलाई इसी में अपना
जन समझा मुफ्त सलाह दे रहे
पढ़ाई लिखाई से करो छुट्टी

एकदम किताबों से घर खाली हो
हरदम कर कमाई पालो परिवार
जीवन उत्साह उमंग बेच पढ़ा
एक अफसर बना सुख पाऊंगा

तन्हाई को दूर कर बड़े शहर में
सपनों का सुंदर निज घर होगा
श्रम धर्म से शानोशौकत लाऊंगा
महंगाई में जीने का तरकीब नई
निकाल दाना पानीरोटी खाऊंगा

पापा भेजो पैसा काट नाम घर
भेजेगा कैसे होगा पढ़ाई अपना
सुन बाप चकराता मां देख मुंह
गहना बेच बच्चे को पढ़ाता है

निज माटी की सुगंध बेच जन
मां ने सहर्ष साज श्रृंगार बेची है
पढ़ लिख बड़ा बनेगा मेरा नन्हा
पूरा होगा निज जग में सपना

भारत मां की लाल बनेगा मुन्ना
आया वह दिन भी बड़ाबना मुन्ना
चतुराई चलाकी से रिश्तों ने छीन
अलग किया मुझसे निज मुन्ना

गुम किया था मिठास जीवन से
दो पैसे खातिर कड़वाहट पाई
रस्सी बुनी तिनका चुनी तिल
तिल जोड़ पढ़ाई इस महंगाई में

मिट्टी चूल्हा बेच बेस्वाद खाना
खा महंगाई में बच्चे भी पढ़ाई
भोलापन अपनाई थी पर आज
अपने ही बच्चो से हुई रुसवाई

बरगद पीपल सी संयुक्त परिवार
बिछुड़ टूट पीढ़ी मुरझा रही है
परिवार जनों को इसकी तनीक
परवाह नहीं क्योंकि इन्हें मिली

वैभव सुख संपत्ति घमण्ड से चूर
दिखावे में भूलगया वंश संस्कृति
अतीत ऐसा कि माता पिता खाई
सूखी रोटी तन ढकन वसन नहीं

महंगाई में बच्चों को पढ़ाई थी
संतोष साहस श्रम ध्यैर्य धर्म से
अपनी संस्कृति लाज बचाई पर
अपने बच्चों से दुःख तृष्णा पाई

इन लम्हें को याद कर विलख
छाती पीट पीट रो रही माताश्री
कोने से झांक बोल रहा पिताश्री
हाय रे हाय महंगाई कैसी दे दी

भोलेपन को जटिल ये मजबूरी
कैसे जीवन यापन होगी मेरी ।

🌿🔥🌿🔥✍️🌿🙏🙏🌷

तारकेश्‍वर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अर्पण है...
अर्पण है...
Er. Sanjay Shrivastava
** बहाना ढूंढता है **
** बहाना ढूंढता है **
surenderpal vaidya
बाईस फरवरी बाइस।
बाईस फरवरी बाइस।
Satish Srijan
2857.*पूर्णिका*
2857.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#लघु कविता
#लघु कविता
*Author प्रणय प्रभात*
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
टिक टिक टिक
टिक टिक टिक
Ghanshyam Poddar
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*
*"वो भी क्या दिवाली थी"*
Shashi kala vyas
"लोहे का पहाड़"
Dr. Kishan tandon kranti
बुला रही है सीता तुम्हारी, तुमको मेरे रामजी
बुला रही है सीता तुम्हारी, तुमको मेरे रामजी
gurudeenverma198
सत्य कहाँ ?
सत्य कहाँ ?
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
हम वीर हैं उस धारा के,
हम वीर हैं उस धारा के,
$úDhÁ MãÚ₹Yá
ठहराव नहीं अच्छा
ठहराव नहीं अच्छा
Dr. Meenakshi Sharma
मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
मोहन ने मीरा की रंग दी चुनरिया
अनुराग दीक्षित
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
क्या आप उन्हीं में से एक हैं
ruby kumari
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
🥰 होली पर कुछ लेख 🥰
🥰 होली पर कुछ लेख 🥰
Swati
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
बहुत मुश्किल होता हैं, प्रिमिकासे हम एक दोस्त बनकर राहते हैं
Sampada
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
संविधान को अपना नाम देने से ज्यादा महान तो उसको बनाने वाले थ
SPK Sachin Lodhi
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
मुनादी कर रहे हैं (हिंदी गजल/ गीतिका)
मुनादी कर रहे हैं (हिंदी गजल/ गीतिका)
Ravi Prakash
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
ईमानदारी, दृढ़ इच्छाशक्ति
Dr.Rashmi Mishra
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
जाने कब दुनियां के वासी चैन से रह पाएंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
छोटी-सी बात यदि समझ में आ गयी,
Buddha Prakash
💐प्रेम कौतुक-465💐
💐प्रेम कौतुक-465💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नयन कुंज में स्वप्न का,
नयन कुंज में स्वप्न का,
sushil sarna
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
Ram Krishan Rastogi
Loading...