Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2023 · 1 min read

*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*

मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)
➖➖➖➖➖➖➖➖➖
मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया
1
मायावी मारीच संग, प्रभुजी के ऐसा खेला
प्रभु खोए बालक खोते, जाकर ज्यों कोई मेला
भाई जादू वाली ही, सीताजी को भी काया
2
भला हिरन सोने का भी, जग में कोई है पाता
मति को पलट लिख रहा था, जैसे दुर्भाग्य विधाता
बाण चला तो आर्तनाद, सुन सिय ने गच्चा खाया
3
खिंची लक्षमण-रेखा से, यदि सीता पार न जातीं
रचा दशानन-आडंबर, यदि समझ सिया कुछ पातीं
रहता सोचा दस सिर से, फिर सब कुछ धरा-धराया
मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया
➖➖➖➖➖➖➖➖
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

414 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हुआ बुद्ध धम्म उजागर ।
हुआ बुद्ध धम्म उजागर ।
Buddha Prakash
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
श्वासें राधा हुईं प्राण कान्हा हुआ।
Neelam Sharma
आज और कल
आज और कल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कैसे पाएं पार
कैसे पाएं पार
surenderpal vaidya
!!! हार नहीं मान लेना है !!!
!!! हार नहीं मान लेना है !!!
जगदीश लववंशी
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
Bundeli Doha by Rajeev Namdeo Rana lidhorI
Bundeli Doha by Rajeev Namdeo Rana lidhorI
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ आज का सवाल...
■ आज का सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
जग-मग करते चाँद सितारे ।
जग-मग करते चाँद सितारे ।
Vedha Singh
हरकत में आयी धरा...
हरकत में आयी धरा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
मौसम कैसा आ गया, चहुँ दिश छाई धूल ।
Arvind trivedi
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
कड़वा बोलने वालो से सहद नहीं बिकता
Ranjeet kumar patre
उफ ये सादगी तुम्हारी।
उफ ये सादगी तुम्हारी।
Taj Mohammad
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
चन्द फ़ितरती दोहे
चन्द फ़ितरती दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
23/125.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/125.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"तफ्तीश"
Dr. Kishan tandon kranti
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
कहो तुम बात खुलकर के ,नहीं कुछ भी छुपाओ तुम !
DrLakshman Jha Parimal
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
Ajay Kumar Vimal
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
दुनिया में कुछ चीजे कभी नही मिटाई जा सकती, जैसे कुछ चोटे अपन
Soniya Goswami
दिल से निकले हाय
दिल से निकले हाय
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
सर्द मौसम में तेरी गुनगुनी याद
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
अपनों का दीद है।
अपनों का दीद है।
Satish Srijan
खुशी -उदासी
खुशी -उदासी
SATPAL CHAUHAN
हिंदी शायरी संग्रह
हिंदी शायरी संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी
मुझे मालूम है, मेरे मरने पे वो भी "अश्क " बहाए होगे..?
Sandeep Mishra
आधुनिक बचपन
आधुनिक बचपन
लक्ष्मी सिंह
एक ख्वाब
एक ख्वाब
Ravi Maurya
Loading...