Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

“माफ करके”

“माफ करके”
नफरत करके क्यूँ बढ़ाते हो
अहमियत किसी की,
माफ करके शर्मिन्दा करने का
तरीका भी तो बुरा नहीं।

1 Like · 1 Comment · 52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी  का,
कर मुसाफिर सफर तू अपने जिंदगी का,
Yogendra Chaturwedi
एहसास.....
एहसास.....
Harminder Kaur
एक श्वान की व्यथा
एक श्वान की व्यथा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
मेरे खाते में भी खुशियों का खजाना आ गया।
सत्य कुमार प्रेमी
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
ऋषि मगस्तय और थार का रेगिस्तान (पौराणिक कहानी)
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
फायदे का सौदा
फायदे का सौदा
ओनिका सेतिया 'अनु '
2688.*पूर्णिका*
2688.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
भोर
भोर
Kanchan Khanna
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ऋतुराज
ऋतुराज
Santosh kumar Miri
कदम पीछे हटाना मत
कदम पीछे हटाना मत
surenderpal vaidya
जीवन में प्यास की
जीवन में प्यास की
Dr fauzia Naseem shad
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
भूल जा इस ज़माने को
भूल जा इस ज़माने को
Surinder blackpen
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
मेरी आंखों के काजल को तुमसे ये शिकायत रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"चली आ रही सांझ"
Dr. Kishan tandon kranti
رام کے نام کی سب کو یہ دہائی دینگے
رام کے نام کی سب کو یہ دہائی دینگے
अरशद रसूल बदायूंनी
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जिंदगी
जिंदगी
sushil sarna
कहो जय भीम
कहो जय भीम
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
बहुत कुछ अरमान थे दिल में हमारे ।
Rajesh vyas
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
VINOD CHAUHAN
तुम्हीं रस्ता तुम्हीं मंज़िल
तुम्हीं रस्ता तुम्हीं मंज़िल
Monika Arora
हर इंसान होशियार और समझदार है
हर इंसान होशियार और समझदार है
पूर्वार्थ
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
महत्वपूर्ण यह नहीं कि अक्सर लोगों को कहते सुना है कि रावण वि
महत्वपूर्ण यह नहीं कि अक्सर लोगों को कहते सुना है कि रावण वि
Jogendar singh
👍👍
👍👍
*प्रणय प्रभात*
आप और हम जीवन के सच................एक सोच
आप और हम जीवन के सच................एक सोच
Neeraj Agarwal
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
*रोते बूढ़े कर रहे, यौवन के दिन याद ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
Loading...