Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jun 2023 · 1 min read

मान बुजुर्गों की भी बातें

मान बुजुर्गों की भी बातें
ज़रा न तु मनमानी कर
बुद्धु बना रहेगा कब तक
थोड़ी अक्ल सयानी कर !

कड़वापन ज्यादा ठीक नहीं
मीठी अपनी बानी कर
रिश्तों चाहे जो प्रेम सदा
थोड़ी सी आनी जानी कर !

तांक झांक मत इधर उधर
फितरत से आनाकानी कर
गोरी हो, या काली हो
पत्नी को घर की रानी कर !

ठहराव नहीं जीवन “चुन्नू”
पत्थर पिघला कर पानी कर
निर्मल सरिता सी धार बहे
औरों के नाम जवानी कर !

•••• कलमकार ••••
चुन्नू लाल गुप्ता-मऊ (उ.प्र.)

1 Like · 276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डाइन
डाइन
अवध किशोर 'अवधू'
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
मिट गई गर फितरत मेरी, जीवन को तरस जाओगे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
रामावतार रामायणसार 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
■ आदी हैं मल-वमन के।।
■ आदी हैं मल-वमन के।।
*प्रणय प्रभात*
खोटा सिक्का
खोटा सिक्का
Mukesh Kumar Sonkar
एक मां ने परिवार बनाया
एक मां ने परिवार बनाया
Harminder Kaur
श्यामपट
श्यामपट
Dr. Kishan tandon kranti
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
3174.*पूर्णिका*
3174.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
" ज़ेल नईखे सरल "
Chunnu Lal Gupta
शीर्षक – निर्णय
शीर्षक – निर्णय
Sonam Puneet Dubey
सड़क
सड़क
SHAMA PARVEEN
सारे रिश्तों से
सारे रिश्तों से
Dr fauzia Naseem shad
आभ बसंती...!!!
आभ बसंती...!!!
Neelam Sharma
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
खुशियों का बीमा
खुशियों का बीमा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भाईचारा
भाईचारा
Mukta Rashmi
माँ की छाया
माँ की छाया
Arti Bhadauria
देश-प्रेम
देश-प्रेम
कवि अनिल कुमार पँचोली
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
*पुरखों की संपत्ति बेचकर, कब तक जश्न मनाओगे (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
(*खुद से कुछ नया मिलन*)
(*खुद से कुछ नया मिलन*)
Vicky Purohit
कब तक बचोगी तुम
कब तक बचोगी तुम
Basant Bhagawan Roy
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
अनिल "आदर्श"
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
मुक्तक ....
मुक्तक ....
Neelofar Khan
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
भीम के दीवाने हम,यह करके बतायेंगे
gurudeenverma198
हिंदी साहित्य की नई विधा : सजल
हिंदी साहित्य की नई विधा : सजल
Sushila joshi
Loading...