Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

****माता रानी आई ****

****माता रानी आई****

लाल लाल चुनरिया सजाई
शेर पे सवार हो माँ आई
उग आये हरे भरे जवारे
जय माता दी सब पुकारें।

हलवा,पूड़ी साग बनाऊँ
मैया को क्या भोग लगाऊँ
लक्ष्मी, सरस्वती, शिव की गौरा
मैया का लाल लाल चौला।

सदन आज देवालय से बने
है गली गली पंडाल सजे
लाल चुनरी चूड़ा हरा है
रूप मैया का सुंदर सजा है।

दीप, ज्योति है अखंड जलती
आभा उज्जवल सी दमकती
व्याकुल भक्त सुनायें दुखड़ा
चाँद से सुंदर माँ का मुखड़ा।

नौ दिन तक है पूजी जाती
नवरात्रि तब यूँ कहलाती
धूप,दीप, हवन ध्यान करना
मैया को तुम प्रसन्न रखना।

नव दिवस के रूप निराले
कितने पावन भोले भाले
शंख,ढोल,मृदंग, झाँझ बजाना
मैया का जयकारा लगाना।

घर घर कंजक पूजन होता
मैया का वो रूप कहाता
खोल देना द्वार सदन के
द्वार पे माता रानी आई।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

333 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अजनवी
अजनवी
Satish Srijan
अपनों की भीड़ में भी
अपनों की भीड़ में भी
Dr fauzia Naseem shad
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
दुनिया तभी खूबसूरत लग सकती है
ruby kumari
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
"वाह रे जमाना"
Dr. Kishan tandon kranti
दान
दान
Neeraj Agarwal
किसी ग़रीब को
किसी ग़रीब को
*Author प्रणय प्रभात*
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
Rj Anand Prajapati
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀🌿🍀
subhash Rahat Barelvi
आग से जल कर
आग से जल कर
हिमांशु Kulshrestha
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
ज़िंदगी एक कहानी बनकर रह जाती है
Bhupendra Rawat
*चाय ,पकौड़ी और बरसात (हास्य व्यंग्य)*
*चाय ,पकौड़ी और बरसात (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
2540.पूर्णिका
2540.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अनसुलझे किस्से
अनसुलझे किस्से
Mahender Singh
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
फ़र्क़ नहीं है मूर्ख हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
ख़ुद अपने नूर से रौशन है आज की औरत
ख़ुद अपने नूर से रौशन है आज की औरत
Anis Shah
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
मित्रता स्वार्थ नहीं बल्कि एक विश्वास है। जहाँ सुख में हंसी-
Dr Tabassum Jahan
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
चलो कल चाय पर मुलाक़ात कर लेंगे,
गुप्तरत्न
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
Arun B Jain
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
एक जिद मन में पाल रखी है,कि अपना नाम बनाना है
पूर्वार्थ
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
दर्द ! अपमान !अस्वीकृति !
Jay Dewangan
*परिचय*
*परिचय*
Pratibha Pandey
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
मास्टर जी का चमत्कारी डंडा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रावण की हार .....
रावण की हार .....
Harminder Kaur
जहां हिमालय पर्वत है
जहां हिमालय पर्वत है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
-- ग़दर 2 --
-- ग़दर 2 --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Loading...