Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

मां भारती से कल्याण

भारत नही इस पृथ्वी पर बस,बना एक भू-भाग
जीवित है यह युगो युगो से, माता का एक नाम

देव दिखे हर मानव तन में, देव ही हर जीव यंहा
धरा,अम्बर,बन और सागर,ऐसा आदर और कंहा

सूरज, चंदा, पर्वत, नदिया, गज, गइय्या या काक
सबका पूजन प्रथा जतावे, अनुरागी सा आभार

सदियो से यह गुरू विश्व का, छोड रहा फिर छाप
एककुटुंब सी बने येधरती,मां भारती से कल्याण

संदीप पांडे “शिष्य” अजमेर

Language: Hindi
3 Likes · 78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sandeep Pande
View all
You may also like:
देश हमारा
देश हमारा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
रिश्ता
रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
कृष्ण भक्ति
कृष्ण भक्ति
लक्ष्मी सिंह
*जमीं भी झूमने लगीं है*
*जमीं भी झूमने लगीं है*
Krishna Manshi
छंद
छंद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
‌एक सच्ची बात जो हर कोई जनता है लेकिन........
Rituraj shivem verma
जिसके पास
जिसके पास "ग़ैरत" नाम की कोई चीज़ नहीं, उन्हें "ज़लील" होने का
*Author प्रणय प्रभात*
!! मुरली की चाह‌ !!
!! मुरली की चाह‌ !!
Chunnu Lal Gupta
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/121.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
मैं अगर आग में चूल्हे की यूँ जल सकती हूँ
मैं अगर आग में चूल्हे की यूँ जल सकती हूँ
Shweta Soni
"हास्य कथन "
Slok maurya "umang"
नीर
नीर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बाल वीर दिवस
बाल वीर दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (2)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
🚩पिता
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बढ़ना होगा
बढ़ना होगा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Pyari dosti
Pyari dosti
Samar babu
💐प्रेम कौतुक-544💐
💐प्रेम कौतुक-544💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोई गहरी नींदों में
सोई गहरी नींदों में
Anju ( Ojhal )
मुकद्दर तेरा मेरा एक जैसा क्यों लगता है
मुकद्दर तेरा मेरा एक जैसा क्यों लगता है
VINOD CHAUHAN
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
अब नहीं वो ऐसे कि , मिले उनसे हँसकर
gurudeenverma198
"पतवार बन"
Dr. Kishan tandon kranti
जो चाहो यदि वह मिले,
जो चाहो यदि वह मिले,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
बहुजन विमर्श
बहुजन विमर्श
Shekhar Chandra Mitra
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
संसार में मनुष्य ही एक मात्र,
संसार में मनुष्य ही एक मात्र,
नेताम आर सी
Loading...