Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

मां तुम बहुत याद आती हो

पहले मेरी एक मामूली सी छींक पर तुम चिंतित हो जाती थी, डांट डपटकर घरेलू नुस्खों के साथ कड़वी दवा पिलाती थी, अब कोई नहीं जो तबियत पूछे मेरी,
मां तुम बहुत याद आती हो।

कहीं आते जाते हर बार मुझे पूछा करती थी,
नहीं दिखता घर में तो तुम चिंता करती थी,
रात में घूमने से मना भी करती थी,
मां तुम बहुत याद आती हो।

खाना खाते वक्त कान तुम्हारी आवाज सुनने को तरसते हैं,
नहीं सुनकर तुम्हारी आवाज मेरे आंसू बरसते हैं,
अब वो मधुर आवाज बस यादों में है,
मां तुम बहुत याद आती हो।

काश तुम नहीं जाती मां मैं अकेला नहीं होता,
याद करते हुए तुमको मां मैं यूं नहीं रोता,
क्यों छोड़ गई मुझको तुम मां, मां तुम बहुत याद आती हो।

याद में तेरे आंचल के ये सिर झुका हुआ रहता है,
जीवन में सबकुछ होकर भी कुछ खाली सा लगता है,
सब दोबारा मिल सकते हैं पर मां नहीं मिल सकती,
मां तुम बहुत याद आती हो, मां तुम बहुत याद आती हो।।

✍️मुकेश कुमार सोनकर “सोनकर जी”
रायपुर, छत्तीसगढ़ मो.नं.9827597473

1 Like · 263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सपने देखने से क्या होगा
सपने देखने से क्या होगा
नूरफातिमा खातून नूरी
वह फूल हूँ
वह फूल हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हकमारी
हकमारी
Shekhar Chandra Mitra
मेरे रहबर मेरे मालिक
मेरे रहबर मेरे मालिक
gurudeenverma198
"याद रखें"
Dr. Kishan tandon kranti
ਕੋਈ ਨਾ ਕੋਈ #ਖ਼ਾਮੀ ਤਾਂ
ਕੋਈ ਨਾ ਕੋਈ #ਖ਼ਾਮੀ ਤਾਂ
Surinder blackpen
जब किसी व्यक्ति और महिला के अंदर वासना का भूकम्प आता है तो उ
जब किसी व्यक्ति और महिला के अंदर वासना का भूकम्प आता है तो उ
Rj Anand Prajapati
पिता
पिता
Sanjay ' शून्य'
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
किसी की किस्मत संवार के देखो
किसी की किस्मत संवार के देखो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
शायद कुछ अपने ही बेगाने हो गये हैं
Ravi Ghayal
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
Dr Manju Saini
अनंतनाग में शहीद हुए
अनंतनाग में शहीद हुए
Harminder Kaur
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
डूबा हर अहसास है, ज्यों अपनों की मौत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आसमाँ के परिंदे
आसमाँ के परिंदे
VINOD CHAUHAN
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
कवि रमेशराज
एक ऐसा मीत हो
एक ऐसा मीत हो
लक्ष्मी सिंह
*रामपुर के पाँच पुराने कवि*
*रामपुर के पाँच पुराने कवि*
Ravi Prakash
When you remember me, it means that you have carried somethi
When you remember me, it means that you have carried somethi
पूर्वार्थ
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
मेरी बातों का असर यार हल्का पड़ा उस पर
कवि दीपक बवेजा
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
सबको सिर्फ़ चमकना है अंधेरा किसी को नहीं चाहिए।
Harsh Nagar
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
सिन्धु घाटी की लिपि : क्यों अंग्रेज़ और कम्युनिस्ट इतिहासकार
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
2549.पूर्णिका
2549.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लहर तो जीवन में होती हैं
लहर तो जीवन में होती हैं
Neeraj Agarwal
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
Loading...