Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2024 · 1 min read

*मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है*

* तुम्हारे चरणों में जन्नत है मां*

मां तुम्हारे चरणों में जन्नत है।
पर यह जन्नत मेरे नसीब में नहीं मां,
क्योंकि हो गई आंखों से ओझल तुम,
हो गई आंखों से ओझल,
कर चली दुनिया से विदा,
रुला कर गई ममता तेरी,
छोड़ गई मझधार में मुझे,
देख आज की उन्नति मेरी
गर्व से कहती मुझे,
मन में मेरे तन में तेरे,
मेरा ही है खून चला।

थाम लेती आंसुओं को मेरे,
बहने ना देती यूं बेवजह,
होती अगर तू साथ मेरे।
ना बिलखती इस जहां में अकेले।
राह दिखाती इन मुश्किलों में मुझे,
ना छोड़ जाती मुझे तन्हा अकेले,

बाल गोपाल लिपटे रहते तुझसे,
देख इन नन्हे परिंदों को
आशियाना ढूंढती मेरे पास
इन नन्हें बालकों से ना दूर रह पाती
देती इनको ममता दुलार,

कहती हूं बारंबार,
तू जहां पर भी रहे,
आपका आशीर्वाद
बना रहे हम पर।

हो गई आंखों से ओझल,
कर चली दुनिया से विदा।
मां की ममता तुझको नमन।
तुझको नमन बारंबार।
तुझको नमन बारंबार।
तुझको नमन बारंबार।

मां श्रीमती स्वर्गीय दुर्गा कठौतिया

कृष्णा मानसी
( मंजू लता मेरसा)
बिलासपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
1 Like · 29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The Sound of Silence
The Sound of Silence
पूर्वार्थ
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
*इस धरा पर सृष्टि का, कण-कण तुम्हें आभार है (गीत)*
Ravi Prakash
ये दौलत ये नफरत ये मोहब्बत हो गई
ये दौलत ये नफरत ये मोहब्बत हो गई
VINOD CHAUHAN
नियति
नियति
surenderpal vaidya
आंखन तिमिर बढ़ा,
आंखन तिमिर बढ़ा,
Mahender Singh
बहारों कि बरखा
बहारों कि बरखा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ना जाने क्यों तुम,
ना जाने क्यों तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
आ जाओ
आ जाओ
हिमांशु Kulshrestha
तुम्हारी कहानी
तुम्हारी कहानी
PRATIK JANGID
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagawan Roy
नयी - नयी लत लगी है तेरी
नयी - नयी लत लगी है तेरी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3444🌷 *पूर्णिका* 🌷
3444🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज के विरोधरस के गीत
रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
पुतलों का देश
पुतलों का देश
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
मधुर-मधुर मेरे दीपक जल
Pratibha Pandey
जिंदगी....एक सोच
जिंदगी....एक सोच
Neeraj Agarwal
आतंक, आत्मा और बलिदान
आतंक, आत्मा और बलिदान
Suryakant Dwivedi
मैं भी डरती हूॅं
मैं भी डरती हूॅं
Mamta Singh Devaa
दिल के कागज़ पर हमेशा ध्यान से लिखिए।
दिल के कागज़ पर हमेशा ध्यान से लिखिए।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
■ भय का कारोबार...
■ भय का कारोबार...
*प्रणय प्रभात*
12. *नारी- स्थिति*
12. *नारी- स्थिति*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
भय के कारण सच बोलने से परहेज न करें,क्योंकि अन्त में जीत सच
Babli Jha
........?
........?
शेखर सिंह
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
हे कलम तुम कवि के मन का विचार लिखो।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
DR Arun Kumar shastri
DR Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
करारा नोट
करारा नोट
Punam Pande
गहरा है रिश्ता
गहरा है रिश्ता
Surinder blackpen
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
दिवाली मुबारक नई ग़ज़ल विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
Loading...