Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

माँ

माँ में समाहित संसार है ।
माँ की ममता अपार है ।
जब जब माँ ने दुलारा है
एक ही आवाज़ आयी है =
लाल तू बड़ा प्यारा है
राजकिशोर मिश्र ‘राज’ प्रतापगढ़ी

Language: Hindi
223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जागृति
जागृति
Shyam Sundar Subramanian
चलते रहना ही जीवन है।
चलते रहना ही जीवन है।
संजय कुमार संजू
"एक नज़्म तुम्हारे नाम"
Lohit Tamta
*शबरी (कुंडलिया)*
*शबरी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जन कल्याण कारिणी
जन कल्याण कारिणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
जिन्दगी के हर सफे को ...
जिन्दगी के हर सफे को ...
Bodhisatva kastooriya
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
हवाओं पर कोई कहानी लिखूं,
AJAY AMITABH SUMAN
शिद्दतो में जो
शिद्दतो में जो
Dr fauzia Naseem shad
ग्रंथ
ग्रंथ
Tarkeshwari 'sudhi'
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नादान था मेरा बचपना
नादान था मेरा बचपना
राहुल रायकवार जज़्बाती
खुद को पुनः बनाना
खुद को पुनः बनाना
Kavita Chouhan
" नयन अभिराम आये हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
तेरा साथ है तो मुझे क्या कमी है
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ऐसा है संविधान हमारा
ऐसा है संविधान हमारा
gurudeenverma198
संत गोस्वामी तुलसीदास
संत गोस्वामी तुलसीदास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ऋतुराज बसंत
ऋतुराज बसंत
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
मेरी जान ही मेरी जान ले रही है
Hitanshu singh
मोहब्बत कर देती है इंसान को खुदा।
मोहब्बत कर देती है इंसान को खुदा।
Surinder blackpen
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
वो दो साल जिंदगी के (2010-2012)
Shyam Pandey
जब जब ……
जब जब ……
Rekha Drolia
दिल से जाना
दिल से जाना
Sangeeta Beniwal
तन से अपने वसन घटाकर
तन से अपने वसन घटाकर
Suryakant Dwivedi
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
चिट्ठी पहुंचे भगतसिंह के
चिट्ठी पहुंचे भगतसिंह के
Shekhar Chandra Mitra
💐💐उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है💐💐
💐💐उनसे अलग कोई मर्ज़ी नहीं है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
Shashi kala vyas
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
चरित्र अगर कपड़ों से तय होता,
Sandeep Kumar
"कष्ट"
नेताम आर सी
World Book Day
World Book Day
Tushar Jagawat
Loading...