Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Aug 2023 · 1 min read

माँ

माँ

मेरा दु:ख, माँ का दु:ख
मेरी खुशी, माँ की खुशी
चोट मुझे लगती है
मेरी माँ रो पड़ती हैं।
खाना मैं खाता हूँ
माँ तृप्त हो जाती हैं।
मुझे सुलाकर ही सोती हैं
पर वे ही सबेरे जगाती हैं।
मेरे हर मर्ज की दवा
मेरी माँ ही होती हैं।
ईनाम मैं पाता हूँ
माँ खुश होती हैं।
परीक्षा में पास मैं होता हूँ
मिठाई माँ बाँटती हैं।
माँ, तुम कितनी अच्छी हो
अपने हिस्से की मिठाई भी
मुझे खिला देती हो।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3364.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3364.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
ब्रांड 'चमार' मचा रहा, चारों तरफ़ धमाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
"राज़-ए-इश्क़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरे अंदर भी इक अमृता है
मेरे अंदर भी इक अमृता है
Shweta Soni
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
हजारों मील चल करके मैं अपना घर पाया।
Sanjay ' शून्य'
"" *जीवन आसान नहीं* ""
सुनीलानंद महंत
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
पूर्वार्थ
माटी कहे पुकार
माटी कहे पुकार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"ज्यादा मिठास शक के घेरे में आती है
Priya princess panwar
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
हयात कैसे कैसे गुल खिला गई
Shivkumar Bilagrami
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
अमन तहज़ीब के परचम को हम ईमान कहते हैं।
Phool gufran
मेरा फलसफा
मेरा फलसफा
umesh mehra
"मुकाबिल"
Dr. Kishan tandon kranti
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
मन को कर देता हूँ मौसमो के साथ
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रुपया-पैसा~
रुपया-पैसा~
दिनेश एल० "जैहिंद"
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
किसी महिला का बार बार आपको देखकर मुस्कुराने के तीन कारण हो स
Rj Anand Prajapati
सफ़र ठहरी नहीं अभी पड़ाव और है
सफ़र ठहरी नहीं अभी पड़ाव और है
Koमल कुmari
सरसी छंद और विधाएं
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
जल प्रदूषण दुःख की है खबर
Buddha Prakash
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
◆केवल बुद्धिजीवियों के लिए:-
*Author प्रणय प्रभात*
वर दो नगपति देवता ,महासिंधु का प्यार(कुंडलिया)
वर दो नगपति देवता ,महासिंधु का प्यार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
वर्षा रानी⛈️
वर्षा रानी⛈️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
माँ
माँ
Neelam Sharma
महसूस होता है जमाने ने ,
महसूस होता है जमाने ने ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...