Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

माँ………

माँ
मां कुछ दिन तू और न जाती,
मैं ही नहीं बहू भी कहती,
कहते सारे पोते नाती.।
मां कुछ दिन तू और न जाती..

हरिद्वार तुझको ले जाता,
गंगा में स्नान कराता ।
कुंभ और तीरथ नहलाता,
कैला मां की जात कराता ।
धीरे धीरे पांव दबाता,
तू जब भी थक कर सो जाती। मां कुछ …

रोज़ सवेरे मुझे जगाना,
बैठ खाट पर भजन सुनाना ।
राम कृष्ण के अनुपम किस्से,
तेरी दिनचर्या के हिस्से।
कितना अच्छा लगता था जब,
पूजा के तू कमल बनाती। मां कुछ ….

सुबह देर तक सोता रहता,
घुटता मन में रोता रहता ।
बच्चें तेरी बातें करते,
तब आंखों में आंसू झरते।
हाथ मेरे माथे पर रख कर,
मां तू अब क्यों न सहलाती। मां कुछ….

कमरे का वो सूना कोना,
चलना,फ़िरना,खाना,सोना।
रोज़ सुबह ठाकुर नहलाना,
बच्चों का तुझको टहलाना।
जिसको तू देती थी रोटी,
गैया आकर रोज़ रंभाती। मां कुछ….

अब जब से तू चली गई है,
मुरझा मन की कली गई है।
थी ममत्व की सुन्दर मूरत,
तेरी वो भोली सी सूरत।
द्रूढ निश्चय और वज्र इरादे,
मन गुलाब की जैसे पाती। मां कुछ दिन तू और न जाती.

आर.सी.शर्मा “आरसी”

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 481 Views
You may also like:
💐💐नासतो विद्यते भावो नाभावो विद्यते सतः💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
धूप
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कृष्ण पधारो आँगना
लक्ष्मी सिंह
आरक्षण का दंश
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
अराच पत्रक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ज़िद
Harshvardhan "आवारा"
एक पंछी
Shiv kumar Barman
दिशा
Saraswati Bajpai
सर्राफा- हड़ताल वर्ष 2016
Ravi Prakash
✍️तजुर्बों से अधूरे रह जाते
'अशांत' शेखर
बंधन
सूर्यकांत द्विवेदी
पसन्द
Seema 'Tu hai na'
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
ये पूजा ये गायन क्या है?
AJAY AMITABH SUMAN
मुहब्बत कभी तमाम ना होती है।
Taj Mohammad
// बेटी //
Surya Barman
हम भी रूठ जायेंगे
Kaur Surinder
"लेखक की मानसिकता "
DrLakshman Jha Parimal
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
रूप घनाक्षरी छंद/ मोबाइल
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
दवा दे गया
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
ग़ज़ल & दिल की किताब में -राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आई सावन की बहार,खुल कर मिला करो
Ram Krishan Rastogi
सवर्ण और दलित
Shekhar Chandra Mitra
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
काली सी बदरिया छाई रे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
नील छंद "विरहणी"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
अमृत महोत्सव
वीर कुमार जैन 'अकेला'
राष्ट्रमंडल खेल- 2022
Deepak Kohli
अर्थहीन
Shyam Sundar Subramanian
Loading...