Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2018 · 1 min read

माँ

आज फिर अपनी मां की
गोद में सोने को मन करता है
बिन बताए आज फिर
रोने को मन करता है

आज फिर बचपन की यादों में
खो जाने को दिल करता है
वह घुटनों के बल चलते हुए
नन्हें- नन्हें कदम
चलने को मन करता है

आज फिर अपनी मां की लोरी
सुनने को मन करता है
आज फिर अपनी मां की
उंगली पकड़कर
चलने को मन करता है

क्या हुआ बड़े हो गए हैं तो
आज फिर अपनी मां के हाथों का
खाने को मन करता है

उल्झी है जब से जिंदगी- जिंदगी बनाने में
आज फिर अपनी मां के लिए
कुछ कर गुजरने का मन करता है

Poem by:
श्याम सिंह बिष्ट
डोटल गाँव
उत्तराखंड

5 Likes · 50 Comments · 763 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Under this naked sky, I wish to hold you in my arms tight.
Manisha Manjari
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
कहना है तो ऐसे कहो, कोई न बोले चुप।
Yogendra Chaturwedi
पत्नी से अधिक पुरुष के चरित्र का ज्ञान
पत्नी से अधिक पुरुष के चरित्र का ज्ञान
शेखर सिंह
गंणतंत्रदिवस
गंणतंत्रदिवस
Bodhisatva kastooriya
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
हीरा उन्हीं को  समझा  गया
हीरा उन्हीं को समझा गया
दुष्यन्त 'बाबा'
Misconceptions are both negative and positive. It is just ne
Misconceptions are both negative and positive. It is just ne
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रिश्तों में परीवार
रिश्तों में परीवार
Anil chobisa
मज़दूर दिवस विशेष
मज़दूर दिवस विशेष
Sonam Puneet Dubey
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
कैसे हाल-हवाल बचाया मैंने
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
परिंदा
परिंदा
VINOD CHAUHAN
करवा चौथ
करवा चौथ
Er. Sanjay Shrivastava
पलक-पाँवड़े
पलक-पाँवड़े
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रहता हूँ  ग़ाफ़िल, मख़लूक़ ए ख़ुदा से वफ़ा चाहता हूँ
रहता हूँ ग़ाफ़िल, मख़लूक़ ए ख़ुदा से वफ़ा चाहता हूँ
Mohd Anas
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
तुम मेरा हाल
तुम मेरा हाल
Dr fauzia Naseem shad
सरस्वती माँ ज्ञान का, सबको देना दान ।
सरस्वती माँ ज्ञान का, सबको देना दान ।
जगदीश शर्मा सहज
सच
सच
Neeraj Agarwal
23/184.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/184.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
खुला खत नारियों के नाम
खुला खत नारियों के नाम
Dr. Kishan tandon kranti
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शबे- फित्ना
शबे- फित्ना
मनोज कुमार
छोटी सी बात
छोटी सी बात
Kanchan Khanna
कुछ उत्तम विचार.............
कुछ उत्तम विचार.............
विमला महरिया मौज
* मैं बिटिया हूँ *
* मैं बिटिया हूँ *
Mukta Rashmi
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
आक्रोष
आक्रोष
Aman Sinha
Loading...