Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2024 · 1 min read

माँ सुहाग का रक्षक बाल 🙏

माँ सुहाग का रक्षक बाल
🔵🔵🔵🔵🔵🔵🔵
आँचल तले पलते ममता
माँ सुहाग का सितारा है

नारी के सम्मान संरक्षक
राज दुलारा नर नारी का

भारत माता नयनों का प्यारा
पिता का एक सबल सहारा

बाल रूप है स्वप्न महल का
कौशल्या देवकी नंदलाला

आन वान शान जोश बाल
धरोहर माँ का रखवाला है

बाल बालिका माँ की ऊर्जा
संग सहेली जीवन की नैया

किस्ती संभाल रखता तूफानों
जीवनधार पार कराती खेबैया

हर घड़कन में है माँ की शक्ति
करुणा दया भाव मातृ भक्ति

जीवन है इनका माँ सर्मपित
शौर्य ताकत है माँ को अर्पित

माँ सुहाग का रक्षक हर बाल
बाला सुहाग का रक्षक लाल ।

🔵🔵🔵🔵🔵🔵🔵🔵🔵
तारकेशवर प्रसाद तरूण

Language: Hindi
41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
हम छि मिथिला के बासी
हम छि मिथिला के बासी
Ram Babu Mandal
सत्य = सत ( सच) यह
सत्य = सत ( सच) यह
डॉ० रोहित कौशिक
हो रही है ये इनायतें,फिर बावफा कौन है।
हो रही है ये इनायतें,फिर बावफा कौन है।
पूर्वार्थ
जिंदगी है बहुत अनमोल
जिंदगी है बहुत अनमोल
gurudeenverma198
प्यार और विश्वास
प्यार और विश्वास
Harminder Kaur
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
मत कर ग़ुरूर अपने क़द पर
Trishika S Dhara
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
मत गुजरा करो शहर की पगडंडियों से बेखौफ
Damini Narayan Singh
हाइकु: गौ बचाओं.!
हाइकु: गौ बचाओं.!
Prabhudayal Raniwal
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
कई बार हमें वही लोग पसंद आते है,
Ravi Betulwala
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
अब तो गिरगिट का भी टूट गया
Paras Nath Jha
वनमाली
वनमाली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मोक्ष पाने के लिए नौकरी जरुरी
मोक्ष पाने के लिए नौकरी जरुरी
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
சூழ்நிலை சிந்தனை
சூழ்நிலை சிந்தனை
Shyam Sundar Subramanian
मैं पापी प्रभु उर अज्ञानी
मैं पापी प्रभु उर अज्ञानी
कृष्णकांत गुर्जर
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
परिवार का एक मेंबर कांग्रेस में रहता है
शेखर सिंह
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
रंगीला बचपन
रंगीला बचपन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"मन की संवेदनाएं: जीवन यात्रा का परिदृश्य"
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
इंतहा
इंतहा
Kanchan Khanna
इंसान जिन्हें
इंसान जिन्हें
Dr fauzia Naseem shad
कविता
कविता
Rambali Mishra
"" *वाङमयं तप उच्यते* '"
सुनीलानंद महंत
चन्द्रयान 3
चन्द्रयान 3
Jatashankar Prajapati
"यदि"
Dr. Kishan tandon kranti
#ज़मीनी_सच
#ज़मीनी_सच
*प्रणय प्रभात*
छन्द- सम वर्णिक छन्द
छन्द- सम वर्णिक छन्द " कीर्ति "
rekha mohan
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
मैं गर्दिशे अय्याम देखता हूं।
Taj Mohammad
विरक्ति
विरक्ति
swati katiyar
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
Kanchan Alok Malu
दो दोहे
दो दोहे
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...