Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Apr 2024 · 1 min read

माँ मुझे जवान कर तू बूढ़ी हो गयी….

मुझे जवान कर माँ तू बूढ़ी हो गयी,
मुझे व्यस्त कर माँ तू फ्री हो गयी,
मेरा पेट भर तू खाली पेट ही सो गयी,
चोट मुझे लगी और दर्द तू ले गयी…..
तू अनपढ़ ही रही मुझे डिग्री करा दी,
पंख काट अपने मुझे उड़ने की कला सिखा दी,
ठोकर मुझे लगी पैर में घाव तेरे हुआ,
मेरी हार में तू रोयी और जीत मेरे सिर सजा दी….
खुद को अकेला कर मेरा अकेलापन दूर कर लिया,
मेरी खुशियों के लिए खुद को मुझसे दूर कर लिया,
मैं पढ़कर भी अनपढ़ ही रहा और तू अनपढ़ होकर सब समझती रही,
तेरी सीख को मैं गलतियाँ मानता रहा तू मेरी गलतियाँ माफ करती रही….
मैं एक कदम भी आगे ना देख पाया तू मेरा पूरा भविष्य देखती रही,
मोतियाबिंद तूने लिया और मेरे आँखों में रोशनी देती रही,
माँ तू इंसान थी या भगवान,
मैं पत्थरों को पूजता रहा और तू चोट खाते हुए मेरे पत्थर हृदय को तराशती रही…..
prAstya……(प्रशांत सोलंकी)

Language: Hindi
2 Likes · 397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
*काल क्रिया*
*काल क्रिया*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
ये आँखे हट नही रही तेरे दीदार से, पता नही
Tarun Garg
खाता काल मनुष्य को, बिछड़े मन के मीत (कुंडलिया)
खाता काल मनुष्य को, बिछड़े मन के मीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )-
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )- " साये में धूप "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
जन्म दिन
जन्म दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
ओनिका सेतिया 'अनु '
हॅंसी
हॅंसी
Paras Nath Jha
It is that time in one's life,
It is that time in one's life,
पूर्वार्थ
The Saga Of That Unforgettable Pain
The Saga Of That Unforgettable Pain
Manisha Manjari
//सुविचार//
//सुविचार//
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मैं एक पल हूँ
मैं एक पल हूँ
Swami Ganganiya
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
क्या अच्छा क्या है बुरा,सबको है पहचान।
क्या अच्छा क्या है बुरा,सबको है पहचान।
Manoj Mahato
""मेरे गुरु की ही कृपा है कि_
Rajesh vyas
3420⚘ *पूर्णिका* ⚘
3420⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
उसको फिर उसका
उसको फिर उसका
Dr fauzia Naseem shad
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
ये आँखें तेरे आने की उम्मीदें जोड़ती रहीं
Kailash singh
सैनिक
सैनिक
Mamta Rani
दोहा त्रयी. . . . शीत
दोहा त्रयी. . . . शीत
sushil sarna
बुंदेली चौकड़िया
बुंदेली चौकड़िया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गजल
गजल
Punam Pande
भूख सोने नहीं देती
भूख सोने नहीं देती
Shweta Soni
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
Yaade tumhari satane lagi h
Yaade tumhari satane lagi h
Kumar lalit
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"खोजना"
Dr. Kishan tandon kranti
खूबसूरती
खूबसूरती
Ritu Asooja
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
Anand Kumar
चुनाव
चुनाव
Neeraj Agarwal
Loading...