Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

माँ तस्वीर नहीं, माँ तक़दीर है…

माँ तस्वीर नहीं
माँ तक़दीर है
माँ क़िस्मत की
हर पहलू की लकीर है,
माँ दहलीज़ की
हर सख़्त पहेली है
माँ ही आँगन की
सच्ची सहेली है।
माँ क़रीब की
वह मंज़िल है
जहां से दिखती
दूर की हर दुनिया
बड़ी ही अच्छी है।
माँ हर दर्द की
मीठी मुस्कान है
माँ, पिता के
हर साहस की पहचान है,
माँ ही जीवन की
अटल, अटूट विश्वास है।
माँ सरल, सत्य, सभ्यता
व संस्कृति की, अलौकिक
एहसास है…

2 Likes · 2 Comments · 496 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dear  Black cat 🐱
Dear Black cat 🐱
Otteri Selvakumar
"मजमून"
Dr. Kishan tandon kranti
विधा - गीत
विधा - गीत
Harminder Kaur
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
पेड़ पौधों के बिना ताजी हवा ढूंढेंगे लोग।
सत्य कुमार प्रेमी
*कविताओं से यह मत पूछो*
*कविताओं से यह मत पूछो*
Dr. Priya Gupta
इन आंखों से इंतज़ार भी अब,
इन आंखों से इंतज़ार भी अब,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*बहन और भाई के रिश्ते, का अभिनंदन राखी है (मुक्तक)*
*बहन और भाई के रिश्ते, का अभिनंदन राखी है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
शेखर सिंह
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
अपने मन मंदिर में, मुझे रखना, मेरे मन मंदिर में सिर्फ़ तुम रहना…
Anand Kumar
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
Paras Nath Jha
शहर में नकाबधारी
शहर में नकाबधारी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सुबह का भूला
सुबह का भूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
◆in advance◆
◆in advance◆
*प्रणय प्रभात*
From dust to diamond.
From dust to diamond.
Manisha Manjari
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
हमने माना कि हालात ठीक नहीं हैं
SHAMA PARVEEN
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मां शारदे वंदना
मां शारदे वंदना
Neeraj Agarwal
जीवन है चलने का नाम
जीवन है चलने का नाम
Ram Krishan Rastogi
डॉ भीमराव अम्बेडकर
डॉ भीमराव अम्बेडकर
नूरफातिमा खातून नूरी
तवाफ़-ए-तकदीर से भी ना जब हासिल हो कुछ,
तवाफ़-ए-तकदीर से भी ना जब हासिल हो कुछ,
Kalamkash
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
डीएनए की गवाही
डीएनए की गवाही
अभिनव अदम्य
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
ख़त्म अपना
ख़त्म अपना
Dr fauzia Naseem shad
चाय दिवस
चाय दिवस
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
मुस्कुराना चाहता हूं।
मुस्कुराना चाहता हूं।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
ओढ़े जुबां झूठे लफ्जों की।
Rj Anand Prajapati
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2845.*पूर्णिका*
2845.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...