Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।

माँ की ममता,प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।

सूने हैं घर – आँगन सारे
सूनी छत , अमराई है,
बहन ढूँढ़ती पल-पल तुझको
रोता छुप – छुप भाई है।
माँ की आँखें नित्य बरसतीं
पापा राह निहारें री,
बाबा , दादी, चाचा माँगें
दुआ नित्य भिनसारे री।
तू भी रोयी, बाबुल रोया, प्रिय संग तू गठजोड़ चली
माँ की ममता, प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।

अब भाई -बहनों का घर में
लड़ना – मिलना, खेल न है,
थके, हार घर आयें पापा
पर तुझसे नित मेल न है।
ढूँढ़ रहीं आँखें तुझको पर
बगिया तुझ बिन खाली है,
पिक के बिना न सुन्दर लगती
बेसुध , बेकल डाली है।
यह जग की है रीत दुलारी,प्रियतम संग पथ मोड़ चली
माँ की ममता, प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।

कोने- कोने नीरस लगते
द्वार बहुत वीरान हुआ,
श्रांत,विकल करती है चौखट
जब से कन्यादान हुआ।
मन ढूँढ़े घर- आँगन तुझको
जैसे सबकुछ खोया है
जग की आँखों से बच हमने
चौबारे चढ़ रोया है।
तू खुश रहे हमेशा जग में, बाँध पिया संग डोर चली
माँ की ममता, प्यार पिता का, बेटी बाबुल छोड़ चली।

अनिल मिश्र प्रहरी।

Language: Hindi
1 Like · 96 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Anil Mishra Prahari
View all
You may also like:
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
काम पर जाती हुई स्त्रियाँ..
Shweta Soni
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
मिटता नहीं है अंतर मरने के बाद भी,
Sanjay ' शून्य'
2589.पूर्णिका
2589.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
मैंने तुझे आमवस के चाँद से पूर्णिमा का चाँद बनाया है।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सुविचार
सुविचार
Neeraj Agarwal
'Love is supreme'
'Love is supreme'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
बस तुम हो और परछाई तुम्हारी, फिर भी जीना पड़ता है
पूर्वार्थ
!! जानें कितने !!
!! जानें कितने !!
Chunnu Lal Gupta
मुहब्बत
मुहब्बत
Pratibha Pandey
यूं कीमतें भी चुकानी पड़ती है दोस्तों,
यूं कीमतें भी चुकानी पड़ती है दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सूर्योदय
सूर्योदय
Madhu Shah
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
मेरे दिल मे रहा जुबान पर आया नहीं....!
Deepak Baweja
भारत माता की संतान
भारत माता की संतान
Ravi Yadav
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
काश ये मदर्स डे रोज आए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
पहले प्रत्यक्ष को
पहले प्रत्यक्ष को
*Author प्रणय प्रभात*
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
इसका क्या सबूत है, तू साथ सदा मेरा देगी
gurudeenverma198
"झूठे लोग "
Yogendra Chaturwedi
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
*ऐसी हो दिवाली*
*ऐसी हो दिवाली*
Dushyant Kumar
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
तुम मेरा हाल
तुम मेरा हाल
Dr fauzia Naseem shad
मेरे जब से सवाल कम हैं
मेरे जब से सवाल कम हैं
Dr. Mohit Gupta
मुक्ति
मुक्ति
Amrita Shukla
वोट कर!
वोट कर!
Neelam Sharma
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
।। लक्ष्य ।।
।। लक्ष्य ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...