Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

महान क्रांतिवीरों को नमन

उग्र क्रांति का घोष कर, कूदे बनकर गाज ।
देशभक्त ‘आजाद’ का, जन्मदिवस है आज ।।
मातृभूमि की आन पर, किये प्राण न्यौछार ।
क्रांतिवीर को राष्ट्र का, वन्दन सौ-सौ बार ।।

‘केशव गंगाधर तिलक’, लोकमान्य है नाम।
सेनानी बनकर लड़े, स्वतंत्रता संग्राम ।।
अंग्रेजों के सामने, सहा न अत्याचार।
नारा दिया स्वराज्य पर, जन्मसिद्ध अधिकार ।।

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी चंद्रशेखर आज़ाद एवं लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की जन्मतिथि पर उन्हें शत-शत नमन 🙏
जगदीश शर्मा/

Language: Hindi
1 Like · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
रंगों का नाम जीवन की राह,
रंगों का नाम जीवन की राह,
Neeraj Agarwal
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
Amit Pandey
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
छुड़ा नहीं सकती मुझसे दामन कभी तू
gurudeenverma198
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उफ़ ये अदा
उफ़ ये अदा
Surinder blackpen
छोटी सी बात
छोटी सी बात
Kanchan Khanna
"हर रास्ते में फूलों से ना होगा सामना
कवि दीपक बवेजा
💐अज्ञात के प्रति-135💐
💐अज्ञात के प्रति-135💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*धरती की आभा बढ़ी,, बूँदों से अभिषेक* (कुंडलिया)
*धरती की आभा बढ़ी,, बूँदों से अभिषेक* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
भीड़ के साथ
भीड़ के साथ
Paras Nath Jha
कहां गए तुम
कहां गए तुम
Satish Srijan
हिन्दी
हिन्दी
manjula chauhan
!! एक चिरईया‌ !!
!! एक चिरईया‌ !!
Chunnu Lal Gupta
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
खारे पानी ने भी प्यास मिटा दी है,मोहब्बत में मिला इतना गम ,
goutam shaw
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#आज_ऐतिहासिक_दिन
#आज_ऐतिहासिक_दिन
*Author प्रणय प्रभात*
" सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
बरखा
बरखा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
*
*"शिक्षक"*
Shashi kala vyas
कवि
कवि
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
Vandna thakur
गांव
गांव
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
थक गया दिल
थक गया दिल
Dr fauzia Naseem shad
मतिभ्रष्ट
मतिभ्रष्ट
Shyam Sundar Subramanian
मुद्रा नियमित शिक्षण
मुद्रा नियमित शिक्षण
AJAY AMITABH SUMAN
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
भगवान ने जब सबको इस धरती पर समान अधिकारों का अधिकारी बनाकर भ
Sukoon
Loading...