Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 1 min read

“महत्वाकांक्षा”

“महत्वाकांक्षा”
अक्सर बुरी होती नहीं
हू-ब-हू पूरी हो
यह भी तो जरूरी नहीं
सोचिए अगर कल्पना
पूर्ण सत्य हो तो क्या होगा?
शायद इससे बढ़कर
कोई दरिद्र जीवन न होगा।

5 Likes · 2 Comments · 433 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
एक उलझा सवाल।
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
Manju sagar
बुद्ध के विचारों की प्रासंगिकता
बुद्ध के विचारों की प्रासंगिकता
मनोज कर्ण
मेरा प्रेम के प्रति सम्मान
मेरा प्रेम के प्रति सम्मान
Ms.Ankit Halke jha
दो मीत (कुंडलिया)
दो मीत (कुंडलिया)
Ravi Prakash
✍️नीली जर्सी वालों ✍️
✍️नीली जर्सी वालों ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली आप सभी के प्रिय कवि
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Doob bhi jaye to kya gam hai,
Sakshi Tripathi
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
*.....मै भी उड़ना चाहती.....*
Naushaba Suriya
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
Arti Bhadauria
चुप
चुप
Ajay Mishra
नजरे मिली धड़कता दिल
नजरे मिली धड़कता दिल
Khaimsingh Saini
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/96.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी खुशबू से
तेरी खुशबू से
Dr fauzia Naseem shad
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
हो गई है भोर
हो गई है भोर
surenderpal vaidya
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ Rãthí
दुआ किसी को अगर देती है
दुआ किसी को अगर देती है
प्रेमदास वसु सुरेखा
When conversations occur through quiet eyes,
When conversations occur through quiet eyes,
पूर्वार्थ
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विवश प्रश्नचिन्ह ???
विवश प्रश्नचिन्ह ???
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
फितरत
फितरत
Sidhartha Mishra
💐 Prodigy Love-6💐
💐 Prodigy Love-6💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्लेटफॉर्म
प्लेटफॉर्म
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ ग़ज़ल / बात बहारों की...!!
■ ग़ज़ल / बात बहारों की...!!
*Author प्रणय प्रभात*
।। कसौटि ।।
।। कसौटि ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...