Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Apr 2023 · 1 min read

महंगाई

इतनी महंगाई कि जिंदगी झंड हो गयी।
किस्मत का दिया मानो दंड हो गयी।

चाय पीने की भी अब तो औकात नहीं
दूध साठ,पत्ती दो सौ,पचास खंड हो गयी।

पंडित से भी कुंडली,दिखाने को गया
बोला बेटा अब तो ये मूल गंड हो गयी।

बिजली का रेट आसमां को छूने लगा
दस मिनट ऐ सी चलाने से लगे ठंड हो गयी।

सिलेंडर 1150,आटा 40,अरहर 90 हुई
मोदीजी कुछ सोचो, महंगाई प्रचंड हो गयी।
सुरिंदर कौर

Language: Hindi
225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
2707.*पूर्णिका*
2707.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
अरे शुक्र मनाओ, मैं शुरू में ही नहीं बताया तेरी मुहब्बत, वर्ना मेरे शब्द बेवफ़ा नहीं, जो उनको समझाया जा रहा है।
Anand Kumar
#एहतियातन...
#एहतियातन...
*Author प्रणय प्रभात*
क्षितिज के पार है मंजिल
क्षितिज के पार है मंजिल
Atul "Krishn"
बाल कविता: भालू की सगाई
बाल कविता: भालू की सगाई
Rajesh Kumar Arjun
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
पल
पल
Sangeeta Beniwal
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
काँटा ...
काँटा ...
sushil sarna
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
" मेरे जीवन का राज है राज "
Dr Meenu Poonia
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अनकही बातों का सिलसिला शुरू करें
अनकही बातों का सिलसिला शुरू करें
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
Shubham Pandey (S P)
"Har Raha mukmmal kaha Hoti Hai
कवि दीपक बवेजा
आंबेडकर न होते तो...
आंबेडकर न होते तो...
Shekhar Chandra Mitra
*अमर रहे गणतंत्र हमारा, मॉं सरस्वती वर दो (देश भक्ति गीत/ सरस्वती वंदना)*
*अमर रहे गणतंत्र हमारा, मॉं सरस्वती वर दो (देश भक्ति गीत/ सरस्वती वंदना)*
Ravi Prakash
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
फंस गया हूं तेरी जुल्फों के चक्रव्यूह मैं
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
तारों जैसी आँखें ,
तारों जैसी आँखें ,
SURYA PRAKASH SHARMA
समान आचार संहिता
समान आचार संहिता
Bodhisatva kastooriya
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
उसे देख खिल गयीं थीं कलियांँ
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
Mera wajud bus itna hai ,
Mera wajud bus itna hai ,
Sakshi Tripathi
"बेहतर"
Dr. Kishan tandon kranti
हमने क्या खोया
हमने क्या खोया
Dr fauzia Naseem shad
Avinash
Avinash
Vipin Singh
सुविचार
सुविचार
Dr MusafiR BaithA
मां बाप के प्यार जैसा  कहीं कुछ और नहीं,
मां बाप के प्यार जैसा कहीं कुछ और नहीं,
Satish Srijan
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...