Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 8, 2016 · 1 min read

मशविरा

खाने के मुआमलात में,
ज़ुबान काबू रखना।
कहने के मुआमलात में,
ज़ुबान थामे रखना।
बड़ी बेबाक है अवधूत,
फिसलती यकायक।
बेबाकी करे मनमानी,
लगाम बाजू रखना।

201 Views
You may also like:
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अनामिका के विचार
Anamika Singh
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता
Keshi Gupta
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
मेरे पापा
Anamika Singh
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पापा
Anamika Singh
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कूड़े के ढेर में भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...