Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

मन नहीं होता

मन नहीं होता अब तुमसे बात करने का
बिना बात कसूरवार बन आह भरने का

क्यों बनती रहूं तेरे सामने बार बार बेचारी
अपने दम पर आगे बढ़ने की, क्यों न करूं तैयारी

बार बार क्यों तोड़ा जाये मेरा आत्मसम्मान
तू भी सिर्फ इंसान है ,नहीं हो भगवान।

मुफ्त की नौकर बन क्यों, बनू घर की रानी
बदलूगी खुद को , बनाऊंगी नयी कहानी।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
दशावतार
दशावतार
Shashi kala vyas
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
"माँ"
इंदु वर्मा
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
मैं उसके इंतजार में नहीं रहता हूं
कवि दीपक बवेजा
प्रेम!
प्रेम!
कविता झा ‘गीत’
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
श्री राम का जीवन– गीत
श्री राम का जीवन– गीत
Abhishek Soni
कृपाण घनाक्षरी....
कृपाण घनाक्षरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ करोगे हड़बड़ तो होगी गड़बड़।।
■ करोगे हड़बड़ तो होगी गड़बड़।।
*Author प्रणय प्रभात*
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"कुछ भी असम्भव नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
*एक मां की कलम से*
*एक मां की कलम से*
Dr. Priya Gupta
*Hey You*
*Hey You*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रिश्तो से जितना उलझोगे
रिश्तो से जितना उलझोगे
Harminder Kaur
*** एक दौर....!!! ***
*** एक दौर....!!! ***
VEDANTA PATEL
* शक्ति है सत्य में *
* शक्ति है सत्य में *
surenderpal vaidya
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
नज़रें बयां करती हैं, लेकिन इज़हार नहीं करतीं,
Keshav kishor Kumar
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
व्यंग्य आपको सिखलाएगा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कहता है सिपाही
कहता है सिपाही
Vandna thakur
शायद हम ज़िन्दगी के
शायद हम ज़िन्दगी के
Dr fauzia Naseem shad
शहर - दीपक नीलपदम्
शहर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
रूप तुम्हारा,  सच्चा सोना
रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
Phool gufran
जिंदगी की कहानी लिखने में
जिंदगी की कहानी लिखने में
Shweta Soni
उजालों में अंधेरों में, तेरा बस साथ चाहता हूँ
उजालों में अंधेरों में, तेरा बस साथ चाहता हूँ
डॉ. दीपक मेवाती
Loading...