Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2023 · 1 min read

मन चंगा तो कठौती में गंगा / MUSAFIR BAITHA

‘मन चंगा तो कठौती में गंगा’ – एक कहावत है जिसका अर्थ किया जाता है कि मन शुद्ध है तो मनचाहे धर्म-फल की प्राप्ति होती है।

इस कहावत की कथा को कबीर के आसपास ही हुए दलित कवि रैदास से हास्यास्पद रूप से जोड़ा जाता है।

रैदास ने शुध्द मन से पुकारा तो गंगा उसके घर की कठौती में प्रकट हो गयी।

स्पष्ट है, यह लोकोक्ति भले ही प्रगतिशील अर्थ देती दिखती है, मगर है यह हिन्दू धार्मिक अंधविश्वास आधारित।

गंगा नदी को यहाँ देवी मान लिया गया है और रैदास को उसका अनन्य भक्त जिसकी चाह को पूरा करने वह कठौती में उतर आती है।

मित्रो, ऐसे मुहावरों-लोकोक्तियों के स्वीकारात्मक प्रयोग से हमें बचना चाहिए।।

बिहार में तो छठ नामक पर्व अब लिटरली कठौती में गंगा को डालकर मनाया भी जाता है; मुहल्ले या घर में गड्ढा खोद या बड़े टब में पानी भरा जाता है और उसमें थोड़ा गंगा का पानी मिला दिया जाता है।

416 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
Mahender Singh
*हम नदी के दो किनारे*
*हम नदी के दो किनारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
पिता के प्रति श्रद्धा- सुमन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
हम चाहते हैं
हम चाहते हैं
Basant Bhagawan Roy
आज भी
आज भी
Dr fauzia Naseem shad
कुछ लिखूँ.....!!!
कुछ लिखूँ.....!!!
Kanchan Khanna
सेवा-भाव उदार था, विद्यालय का मूल (कुंडलिया)
सेवा-भाव उदार था, विद्यालय का मूल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
■ आज भी...।
■ आज भी...।
*Author प्रणय प्रभात*
अगर एक बार तुम आ जाते
अगर एक बार तुम आ जाते
Ram Krishan Rastogi
एक हमारे मन के भीतर
एक हमारे मन के भीतर
Suryakant Dwivedi
वाह टमाटर !!
वाह टमाटर !!
Ahtesham Ahmad
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
बहुत मुश्किल है दिल से, तुम्हें तो भूल पाना
gurudeenverma198
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
Dr MusafiR BaithA
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
Kunal Prashant
★डॉ देव आशीष राय सर ★
★डॉ देव आशीष राय सर ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
3227.*पूर्णिका*
3227.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
Keshav kishor Kumar
*इन तीन पर कायम रहो*
*इन तीन पर कायम रहो*
Dushyant Kumar
एक दिवस में
एक दिवस में
Shweta Soni
"सुनो तो"
Dr. Kishan tandon kranti
मोहतरमा कुबूल है..... कुबूल है /लवकुश यादव
मोहतरमा कुबूल है..... कुबूल है /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
Started day with the voice of nature
Started day with the voice of nature
Ankita Patel
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
मोहब्बत पलों में साँसें लेती है, और सजाएं सदियों को मिल जाती है, दिल के सुकूं की क़ीमत, आँखें आंसुओं की किस्तों से चुकाती है
Manisha Manjari
हम और तुम
हम और तुम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
=====
=====
AJAY AMITABH SUMAN
उनको असफलता अधिक हाथ लगती है जो सफलता प्राप्त करने के लिए सह
उनको असफलता अधिक हाथ लगती है जो सफलता प्राप्त करने के लिए सह
Rj Anand Prajapati
Loading...