Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

मन की पीड़ा क

शीर्षक – मन की पीड़ा
*****************
सच तो मन की पीड़ा होती हैं।
जीवन और जिंदगी में इच्छा होती हैं।
न अपना न पराया बस मन की सोच होती हैं।
मन की पीड़ा ही उम्मीद और आशा होती हैं।
सच और सही सोच हमारी अपनी होती हैं।
बस मन की पीड़ा हम न किसी से कहते हैं।
आज कल बरसों से मन की पीड़ा रहती हैं।
मन की पीड़ा ही हमारी आशाएं होती है।
न उम्मीद न आशाएं मन की पीड़ा होती हैं।
हम सभी के मन‌ की पीड़ा की सोच होती हैं।
जीवन में हम सभी के मन की पीड़ा होती हैं।
उम्मीद और आशा सपने मन की पीड़ा देते हैं।
निःस्वार्थ भाव जीवन में न मन की पीड़ा होती हैं।
**********************************
नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
रुसवा हुए हम सदा उसकी गलियों में,
Vaishaligoel
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
पतझड़
पतझड़
ओसमणी साहू 'ओश'
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
"हँसता था पहाड़"
Dr. Kishan tandon kranti
अंधविश्वास का पोषण
अंधविश्वास का पोषण
Mahender Singh
जनक देश है महान
जनक देश है महान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
श्रीराम गाथा
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
ईश्वर के नाम पत्र
ईश्वर के नाम पत्र
Indu Singh
अंत में पैसा केवल
अंत में पैसा केवल
Aarti sirsat
देर तक मैंने आईना देखा
देर तक मैंने आईना देखा
Dr fauzia Naseem shad
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जाते हो.....❤️
जाते हो.....❤️
Srishty Bansal
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
किसी के साथ की गयी नेकी कभी रायगां नहीं जाती
shabina. Naaz
*
*"गंगा"*
Shashi kala vyas
पिता का साया
पिता का साया
Neeraj Agarwal
इश्क चख लिया था गलती से
इश्क चख लिया था गलती से
हिमांशु Kulshrestha
होगे बहुत ज़हीन, सवालों से घिरोगे
होगे बहुत ज़हीन, सवालों से घिरोगे
Shweta Soni
हैवानियत
हैवानियत
Shekhar Chandra Mitra
!! कोई आप सा !!
!! कोई आप सा !!
Chunnu Lal Gupta
#परिहास-
#परिहास-
*Author प्रणय प्रभात*
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
Ravi Yadav
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
कृष्णकांत गुर्जर
गर्म स्वेटर
गर्म स्वेटर
Awadhesh Singh
आसमां से आई
आसमां से आई
Punam Pande
Loading...