Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA

तुलसीदास और वाल्मीकि जैसे ब्राह्मणों ने अलबेली कहानियां गढ़ीं। त्रेता जैसे ’शून्यकाल’ में भी उन्होंने आदमियों को उगा दिया।

उन्होंने यही नहीं किया, बल्कि इन बेहद कल्पना कुशल बामनों ने इन बेसिरपैर की कथाओं में यह भी कल्पना घुसेड़ दी कि मनुष्य की तरह भालुओं और बंदरों की प्रजातियों में भी बाजाब्ते शादियाँ होती थीं।

हनुमान नामवर देव कैरेक्टर के बंदर का बाप पवन (हवा) था और मां थी अंजनी। दो बंदर भाइयों, बाली और सुग्रीव की कथा में पत्नी विवाद का हल करते हुए ‘भगवान’ ने एक भाई, सुग्रीव का नैतिक समर्थन किया और बाली को विवाह संस्था के कायदों के उल्लंघन की सजा उसकी हत्या करवा कर दी और उलझे पारिवारिक मैटर को सुलझाया था!

इस हिसाब से देखें तो मॉडर्न काल के बंदर हनुमान, सुग्रीव, बाली की तरह आधुनिक मोड के ओल्ड फैशंड न पैदा होकर पिछड़े जीन के साबित हो रहे हैं, जो न तो मनुष्यों की तरह बातचीत कर सकते, न ब्याह।

221 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
आंखो में है नींद पर सोया नही जाता
Ram Krishan Rastogi
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
जलियांवाला बाग
जलियांवाला बाग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मजा आता है पीने में
मजा आता है पीने में
Basant Bhagawan Roy
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
जो बीत गया उसकी ना तू फिक्र कर
Harminder Kaur
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
gurudeenverma198
"गरीब की बचत"
Dr. Kishan tandon kranti
सिर्फ तुम
सिर्फ तुम
Arti Bhadauria
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
बच्चा सिर्फ बच्चा होता है
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पुष्प रुष्ट सब हो गये,
पुष्प रुष्ट सब हो गये,
sushil sarna
********* हो गया चाँद बासी ********
********* हो गया चाँद बासी ********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गिरता है धीरे धीरे इंसान
गिरता है धीरे धीरे इंसान
Sanjay ' शून्य'
हे पिता
हे पिता
अनिल मिश्र
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
Ranjeet kumar patre
दिल की बातें
दिल की बातें
Ritu Asooja
दीपावली
दीपावली
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*जब तू रूठ जाता है*
*जब तू रूठ जाता है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
घर और घर की याद
घर और घर की याद
डॉ० रोहित कौशिक
।। समीक्षा ।।
।। समीक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
तुम जो कहते हो प्यार लिखूं मैं,
Manoj Mahato
शिवकुमार बिलगरामी के बेहतरीन शे'र
शिवकुमार बिलगरामी के बेहतरीन शे'र
Shivkumar Bilagrami
*डायरी के कुछ प्रष्ठ (कहानी)*
*डायरी के कुछ प्रष्ठ (कहानी)*
Ravi Prakash
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
Rj Anand Prajapati
“ आहाँ नीक, जग नीक”
“ आहाँ नीक, जग नीक”
DrLakshman Jha Parimal
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
हर घर में नहीं आती लक्ष्मी
कवि रमेशराज
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...