Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

मनुष्यता बनाम क्रोध

आदमी में जिस अनुपात में
क्रोध आना घट जाता है
उसी अनुपात में उसका
सयानापन बढ़ता है
मनुष्यता सिकुड़ती है
और बढ़ती है भीरूता
गो कि इस भीरूता में भी
सहजकर आदमियत
पा ली जाती है अक्सर!

गुस्से का संभार
जरूरी हिस्सा होना चाहिए
व्यक्तित्व का
अभ्यन्तर में तो निश्चित ही हमारे
प्रशांत सोता बहते रहना चाहिए इसका
बाहर बाहर चाहे वह भरसक
न हो अभिव्यक्त या कि प्रकट ऐसे
कि लगे गैरजरूरी हो!

Language: Hindi
1 Like · 121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
क्या मिटायेंगे भला हमको वो मिटाने वाले .
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
खेत रोता है
खेत रोता है
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
The_dk_poetry
सावन बरसता है उधर....
सावन बरसता है उधर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"कुछ रास्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
" रे, पंछी पिंजड़ा में पछताए "
Chunnu Lal Gupta
कलेक्टर से भेंट
कलेक्टर से भेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
मैं जानता हूॅ॑ उनको और उनके इरादों को
VINOD CHAUHAN
ज़िंदगी क्या है ?
ज़िंदगी क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
इस दुनिया के रंगमंच का परदा आखिर कब गिरेगा ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
World News
शुभकामना संदेश
शुभकामना संदेश
Rajni kapoor
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
घर एक मंदिर🌷🙏
घर एक मंदिर🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कैदी
कैदी
Tarkeshwari 'sudhi'
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
मनमोहिनी प्रकृति, क़ी गोद मे ज़ा ब़सा हैं।
कार्तिक नितिन शर्मा
सौ सदियाँ
सौ सदियाँ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मानवता
मानवता
Rahul Singh
.......शेखर सिंह
.......शेखर सिंह
शेखर सिंह
😊😊😊
😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
"विक्रम" उतरा चाँद पर
Satish Srijan
सुहावना समय
सुहावना समय
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
2980.*पूर्णिका*
2980.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दरकती है उम्मीदें
दरकती है उम्मीदें
Surinder blackpen
किताब
किताब
Sûrëkhâ
हे बुद्ध
हे बुद्ध
Dr.Pratibha Prakash
We make Challenges easy and
We make Challenges easy and
Bhupendra Rawat
'खामोश बहती धाराएं'
'खामोश बहती धाराएं'
Dr MusafiR BaithA
हमारी मंजिल
हमारी मंजिल
Diwakar Mahto
Loading...