Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2020 · 2 min read

*** ” मनचला राही…और ओ…! ” *** ‌ ‌‌‌‌

* कटनी तक , बिलासपुर से ;
ट्रेन का एक सफ़र था।
मौसमी बारिश की ” फुहार ” ,
और मस्तमय क़हर था।
ट्रेन की चाल , औसत से ;
कुछ अधिक , गतिमय था ।
गतिमान ट्रेन में , एक ठहराव आया ;
शायद…!
” करगीरोड कोटा ” स्टेशन था।
एक मेरा मन मतवारा ,
और खिड़की पर बैठा , मैं आवारा।
कुछ दूर.. ,
पत्थरों की ढेर बनाती ;
खूबसूरत एक हसीना नजर आया।
देख हसीना.. ,
मैं बहुत इठलाया ;
पवन प्यारे ने भी मुझे और उकसाया।
मन में.. ,
कुछ शरारती विचारों का उद्गार हुआ
फिर मेरे… ,
तिरछी निगाहों का प्रहार हुआ।
और….
एक बार नहीं , बारंबार हुआ।।
कुछ आंतरिक अंतरंग से ,
एक ” विकार भाव ” उद्भव ” हुआ।
फिर मन-अंबर में… ,
सपनों का बरसात हुआ।

** अनचाहे निगाहों से ,
उसने एक नज़र मुझ पर डाला।
अंतर्मन मेरा , मस्त हो गया ;
जैसे कोई पागल मतवाला।
कह गई ओ..,
अपने इरादे ;
कर गई कुछ अनचाहे वादे।
दे गई एक सुहाने सपने…,
और कैद कर ली मुझे ;
नज़रों में अपने ।
पढ़ न सका मैं…,
नज़रों की पाठ ;
और..
कर डाला अजनबी दिल पर कुठाराघात।
ओ मेरे… ,
मनचले मन का मरम था ,
मेरे विकृत विचारों का भरम था।
थी वह… ,
मंजिलों की रानी ;
वक्त की बेवस़ी में… ,
बन गई पत्थर की बहुरानी।
नज़रों में कस़क थी… ,
जवाब उसकी , अजब-गजब थी ।
” हूँ मैं.. , आज हालातों की मारी ; ”
” कल तक थी महलों की प्यारी । ”
” मैं तेरी आशाओं की नारी.., ”
” न कर मुझे..,
आज अपने नजरों से ब्यभीचारी। ”

*** ऐ अजनबी राहगीर ,
नजरों से नज़र पहचान ले।
मेरी अंतर्मन और ,
त्रासित तन को जान ले।
करना नहीं तू कभी , ऐसी भूल ;
ओ मेरे मतवाले राही।
मेरी नज़र में है… ,
जीवन के विवशता धूल ;
मैं हूँ तेरी… ,
पनाहों में बहती ,
प्रबल-अविरल माही।
केवल…..! ,
तू ही नहीं , अनेक हैं ;
ऐसी मस्ती में चूर ।
शायद…..! ,
” जीवन ” की ,
अज़ब यही है दस्तूर।
शायद……! ,
” जीवन ” की,
अज़ब यही है दस्तूर।
” क्या ..? , नारी होना ही , मेरी है कसूर । ”
” क्या…? , नारी होना ही , मेरी है कसूर । ”

***************∆∆∆***************

* बी पी पटेल *
बिलासपुर (छ.ग.)

Language: Hindi
2 Likes · 2 Comments · 460 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VEDANTA PATEL
View all
You may also like:
व्यवहारिक नहीं अब दुनियां व्यावसायिक हो गई है,सम्बंध उनसे ही
व्यवहारिक नहीं अब दुनियां व्यावसायिक हो गई है,सम्बंध उनसे ही
पूर्वार्थ
दोहा सप्तक. . . . . रिश्ते
दोहा सप्तक. . . . . रिश्ते
sushil sarna
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
व्यथा दिल की
व्यथा दिल की
Devesh Bharadwaj
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे  शुभ दिन है आज।
दीप प्रज्ज्वलित करते, वे शुभ दिन है आज।
Anil chobisa
विचार
विचार
Godambari Negi
फिर कब आएगी ...........
फिर कब आएगी ...........
SATPAL CHAUHAN
नींद
नींद
Kanchan Khanna
मतला
मतला
Anis Shah
नेताजी का रक्तदान
नेताजी का रक्तदान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
Mukta Rashmi
पर्यावरण
पर्यावरण
Dr Parveen Thakur
2729.*पूर्णिका*
2729.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"दीवारें"
Dr. Kishan tandon kranti
तुझे आगे कदम बढ़ाना होगा ।
तुझे आगे कदम बढ़ाना होगा ।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
आफ़ताब
आफ़ताब
Atul "Krishn"
बुदबुदा कर तो देखो
बुदबुदा कर तो देखो
Mahender Singh
* straight words *
* straight words *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ बेमन की बात...
■ बेमन की बात...
*प्रणय प्रभात*
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
लोग शोर करते रहे और मैं निस्तब्ध बस सांस लेता रहा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
...........!
...........!
शेखर सिंह
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
मेरा विचार ही व्यक्तित्व है..
Jp yathesht
दिनकर शांत हो
दिनकर शांत हो
भरत कुमार सोलंकी
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
Dushyant Kumar
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
शब्द ब्रह्म अर्पित करूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी नज्म, मेरी ग़ज़ल, यह शायरी
मेरी नज्म, मेरी ग़ज़ल, यह शायरी
VINOD CHAUHAN
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
कृष्ण जी के जन्म का वर्णन
Ram Krishan Rastogi
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
खुद को जानने में और दूसरों को समझने में मेरी खूबसूरत जीवन मे
Ranjeet kumar patre
*पृथ्वी दिवस*
*पृथ्वी दिवस*
Madhu Shah
Loading...