Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

मत कहना …

मत कहना अपने पिता से ये,
कि आपने मेरे लिए किया ही क्या है ।
मत कहना अपनी माँ से ये,
कि आपने मुझको दिया ही क्या है।
क्योंकि तुम्हारे पिता ने पसीना बहाकर
तुम्हारे लिए दो रोटियाँ कमाई हैं ।
और तुम्हारी माँ ने खुद भूखे रहकर ,
वो रोटियाँ तुमको खिलाई है ।।

— सूर्या

1 Like · 74 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जीवन का कोई सार न हो
जीवन का कोई सार न हो
Shweta Soni
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
स्वतंत्रता का अनजाना स्वाद
Mamta Singh Devaa
मिथक से ए आई तक
मिथक से ए आई तक
Shashi Mahajan
*ज़िंदगी का सफर*
*ज़िंदगी का सफर*
sudhir kumar
#भूली बिसरी यादे
#भूली बिसरी यादे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
ता थैया थैया थैया थैया,
ता थैया थैया थैया थैया,
Satish Srijan
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
यदि आप बार बार शिकायत करने की जगह
Paras Nath Jha
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आंख से गिरे हुए आंसू,
आंख से गिरे हुए आंसू,
नेताम आर सी
*शिवोहम्*
*शिवोहम्* "" ( *ॐ नमः शिवायः* )
सुनीलानंद महंत
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
3178.*पूर्णिका*
3178.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अरे ! मुझसे मत पूछ
अरे ! मुझसे मत पूछ
VINOD CHAUHAN
*सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम (गीत)*
*सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम (गीत)*
Ravi Prakash
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
अभिषेक कुमार यादव: एक प्रेरक जीवन गाथा
Abhishek Yadav
भूल ना था
भूल ना था
भरत कुमार सोलंकी
"बढ़ते चलो"
Dr. Kishan tandon kranti
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
वक्त लगता है
वक्त लगता है
Vandna Thakur
वाह भाई वाह
वाह भाई वाह
Dr Mukesh 'Aseemit'
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
Rj Anand Prajapati
कैसे लिखूं
कैसे लिखूं
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
sushil sarna
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक,  तूँ  है
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक, तूँ है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पढ़ाई
पढ़ाई
Kanchan Alok Malu
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
तुझसे मिलते हुए यूँ तो एक जमाना गुजरा
Rashmi Ranjan
सुना था,
सुना था,
हिमांशु Kulshrestha
Loading...