Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 2 min read

मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा

नदियां हमें पानी देती हैं और
अपने पेट के पानी में पलते जलचरों को जीवन
जलचरों का घर होती हैं नदियां
जलचरों को प्रकृति से मिला है जीने के ढंग
इस जीने के ढंग में एक दूसरे के
जान के ग्राहक भी होते हैं जलचर
आहार शृंखला है जो प्रकृति में जीवों की
उसकी एक कड़ी नदी बीच भी बनती है
स्वाभाविक कड़ी
इस स्वाभाविक कड़ी को तोड़ता है मनुष्य
जैसे कि मछुआरे जलचर मछलियों की
जान का ग्राहक बन बैठते हैं
निर्दोष मछलियों का शिकार कर वे
उनकी हत्या कर खुद परिवार समेत उन्हें खाते हैं
अथवा अन्य मांसाहारी मनुष्यों को बेच देते हैं
जिससे मछुआरे को कैश या काइंड में
धन भी मिलता है।

मछलियों को स्वाद का सबब मानते मनुष्य को मछलियों के लिए कोई हमदर्दी नहीं होती
हां उन मनुष्यों को उन मछलियों के प्रति हो सकती है हमदर्दी
जिनका वे भक्षण नहीं करते
अपने घर दफ्तर में शीशे के भीतर उन्हें कैदकर
उनके बंदी जीवन को
तमाशा बना देते हैं
घर की शोभा और शान शौकत का
सबब मान बैठते हैं

मनुष्य के दया और क्रूरता के स्वभाव की
कोई तय प्रकृति नहीं होती
कई बार जीव हिंसा के विरुद्ध होता है कुछ मनुष्यों का स्वभाव
तो कई बार धर्म के रास्ते पर चलते हुए वह हो जाता है
क्रूर हिंसक जीवों के प्रति
बली का बकरा
इसी हिंस्र धार्मिक आहार व्यवहार से उपजा है
जीवों के प्रति दया भाव भी है कहीं धर्माचरण में
ऐसे ही धर्म मार्ग हैं बौद्ध, जैन, कबीरपंथ जैसे रास्ते
कुछ धर्म मार्ग हिंसा का लूपहोल उपलब्ध कराते हुए हिंसापसंद हैं।
नवरात्रि भर केवल शाकाहार
पर्व खत्म होते ही हर कसाई के यहां
लग जाती है जन्म जन्म के भूखों जैसी
भक्तों की कतार
जैसे कि
नौ दिन तक मांसाहार न कर पाने की कसक
नौ घंटे के अंदर ही पूरी कर ली जाए!

Language: Hindi
189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
लक्ष्य
लक्ष्य
लक्ष्मी सिंह
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
पूर्वार्थ
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
जल है, तो कल है - पेड़ लगाओ - प्रदूषण भगाओ ।।
Lokesh Sharma
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
जिस्म से जान जैसे जुदा हो रही है...
Sunil Suman
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
एक डरा हुआ शिक्षक एक रीढ़विहीन विद्यार्थी तैयार करता है, जो
Ranjeet kumar patre
कई रात को भोर किया है
कई रात को भोर किया है
कवि दीपक बवेजा
औरों के संग
औरों के संग
Punam Pande
मोतियाबिंद
मोतियाबिंद
Surinder blackpen
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
बिन मांगे ही खुदा ने भरपूर दिया है
हरवंश हृदय
ये   दुनिया  है  एक  पहेली
ये दुनिया है एक पहेली
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
इज़्ज़त
इज़्ज़त
Jogendar singh
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सफ़ारी सूट
सफ़ारी सूट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कहानी ....
कहानी ....
sushil sarna
लौट कर वक़्त
लौट कर वक़्त
Dr fauzia Naseem shad
*जीतेंगे इस बार चार सौ पार हमारे मोदी जी (हिंदी गजल)*
*जीतेंगे इस बार चार सौ पार हमारे मोदी जी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
कालू भैया पेल रहे हैं, वाट्स एप पर ज्ञान
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2711.*पूर्णिका*
2711.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
होगे बहुत ज़हीन, सवालों से घिरोगे
होगे बहुत ज़हीन, सवालों से घिरोगे
Shweta Soni
17. बेखबर
17. बेखबर
Rajeev Dutta
बसंत
बसंत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
बेटियां ज़ख्म सह नही पाती
Swara Kumari arya
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
किस पथ पर उसको जाना था
किस पथ पर उसको जाना था
Mamta Rani
हिन्दी दोहा-पत्नी
हिन्दी दोहा-पत्नी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
"चाहत का सफर"
Dr. Kishan tandon kranti
■ आज की बात....!
■ आज की बात....!
*प्रणय प्रभात*
ये पैसा भी गजब है,
ये पैसा भी गजब है,
Umender kumar
Loading...