Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

मंहगी सब्ज़ियाँ

दोहे
(१)बैठ सब्जी बाज़ार में,अपनी आँखें सेंक। ख़रीदना मुमकिन नहीं ,ख़ाली नज़रें फेंक।।
(२)सब्जी जी ही क्रुद्ध नहीं,जिंसों में भी उछाल। लञ्च डिनर पे टेबुल पर,मचता रोज़ बवाल।।
(३)सब्जी अगर मँहगी मिले,खाओ रोटी दाल ।दाल पकते समय मगर,जम कर पानी डाल।।

Language: Hindi
2 Comments · 291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from avadhoot rathore
View all
You may also like:
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
*ऐसा हमेशा कृष्ण जैसा, मित्र होना चाहिए (मुक्तक)*
Ravi Prakash
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
अब नई सहिबो पूछ के रहिबो छत्तीसगढ़ मे
Ranjeet kumar patre
"रंग वही लगाओ रे"
Dr. Kishan tandon kranti
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
जन्म मृत्यु का विश्व में, प्रश्न सदा से यक्ष ।
Arvind trivedi
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
हे मानव! प्रकृति
हे मानव! प्रकृति
साहित्य गौरव
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
चलो चलो तुम अयोध्या चलो
gurudeenverma198
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
Harminder Kaur
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
जिसने भी तुमको देखा है पहली बार ..
Tarun Garg
Open mic Gorakhpur
Open mic Gorakhpur
Sandeep Albela
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
बुद्धि सबके पास है, चालाकी करनी है या
Shubham Pandey (S P)
23/43.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/43.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौसम
मौसम
Monika Verma
है मुश्किल दौर सूखी,
है मुश्किल दौर सूखी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेटी की बिदाई
बेटी की बिदाई
Naresh Sagar
💐प्रेम की राह पर-75💐
💐प्रेम की राह पर-75💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"मैं अपनी धुन में चला
*Author प्रणय प्रभात*
12
12
Dr Archana Gupta
ये नयी सभ्यता हमारी है
ये नयी सभ्यता हमारी है
Shweta Soni
वही खुला आँगन चाहिए
वही खुला आँगन चाहिए
जगदीश लववंशी
आईना...
आईना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
दृढ़ आत्मबल की दरकार
दृढ़ आत्मबल की दरकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कभी खुद से भी तो बात करो
कभी खुद से भी तो बात करो
Satish Srijan
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
सत्य कुमार प्रेमी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
नारी
नारी
विजय कुमार अग्रवाल
🪸 *मजलूम* 🪸
🪸 *मजलूम* 🪸
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
Loading...