Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2023 · 2 min read

— मंदिर में ड्रेस कोड़ —

कभी कभी इंसान की गलतिओं को देखकर ही ऐसे कदम उठाने पर विवश होती हैं मंदिर की समिति , आप मंदिर जा रहे है, अच्छी बात है, आप मंदिर में बेहूदा कपड़े पहन कर जा रहे हैं, यह कहाँ तक उचित है ? मंदिर में भगवान् के दर्शन करने जा रहे हो, या उन मूर्तिओं के जिन को अकल नहीं कि कैसे कपडे पहन कर मंदिर में जाना चाहिए , आप अमीर हैं, अपने लिए हैं, पर भगवान की नजर में आप फ़कीर ही रहोगे, आपको चाहे विरासत में पैसा मिला या आपने खुद से कमाया, परन्तु उस पैसे के साथ न्याय तो कीजिये , ऐसा गन्दा परिधान किस लिए पहन कर देवी देवताओं के दर्शन करने जाते हो, कि लोग जो दर्शन करने आये हैं, उनके मन पर आपके पहरावे का बुरा प्रभाव पड़े, फिर बातें यह सुनाने को मिलेंगे, की सब की नजर ही गलत है, अरे आप गलत नहीं हो क्या, छोटे कपडे, कटे फटे कपडे, जिस्म को झांकते हुए लिबास , क्या दर्शाना चाहते हो, किस को अपनी तरफ आकर्षित करने के ऐसे कपडे पहनते हो, तन ढको ऐसा की लोग भगवान् की तरफ ध्यान करते हुए दर्शन करने जाए, न कि आपकी तरफ देखने को मजबूर हो जाए, अच्छा ही हो रहा है, कि आज मंदिर की समितियां भी जागरूक हो गयी है, नहीं तो आजकल के जवान लड़के लड़किओं ने जैसे कपडे पहन कर मंदिर में आना जाना शुरू किया , उस को देखकर तो लगता ही नहीं , कि यह लोग मंदिर जा रहे है, ऐसा लगता है, जैसे बाजार या पिकनिक मनाने जा रहे है, अब एक बात और सामने आती है, वो यह है, कि उनके माँ बाप भी ऐसे कपड़ों पर ध्यान नहीं देते, वो साथ में जाते है, शायद इस में अपनी शान समझते है, कि हमारे बच्चे ने सब से अलग, बहुत बढ़ीया कपडे पहने हुए है,उनको भी ऐसी छोटी छोटी चीजों पर ध्यान देने की जरुरत है, बात कड़ी लिखी गयी है, पर समझने के लायक ही लिखी गयी है, अक्सर कड़वा लिखने वाले को लोग अलग दृष्टि से देखते है, वो समाज में उनकी आँखों में सुधारक न बनकर , आँख का काँटा जरूर बन जाता है, पर सत्य तो सत्य ही रहेगा, अच्छे और समझदार लोग महसूस कर सकते है, और आगे भी किसी ने किसी से कह सकते है, कि हम सब को मर्यादा का पालन अवश्य करना है, सब को प्रेरित भी करना हम सब का कर्तव्य है !

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 271 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
परम तत्व का हूँ  अनुरागी
परम तत्व का हूँ अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
होली
होली
Neelam Sharma
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
आजकल गरीबखाने की आदतें अमीर हो गईं हैं
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
संसार में सही रहन सहन कर्म भोग त्याग रख
संसार में सही रहन सहन कर्म भोग त्याग रख
पूर्वार्थ
आसमां से आई
आसमां से आई
Punam Pande
कहानी- 'भूरा'
कहानी- 'भूरा'
Pratibhasharma
देखा नहीं है कभी तेरे हुस्न का हसीं ख़्वाब,
देखा नहीं है कभी तेरे हुस्न का हसीं ख़्वाब,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
" मिलन की चाह "
DrLakshman Jha Parimal
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
सजी कैसी अवध नगरी, सुसंगत दीप पाँतें हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
द्रवित हृदय जो भर जाए तो, नयन सलोना रो देता है
Yogini kajol Pathak
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
गीता मर्मज्ञ श्री दीनानाथ दिनेश जी
Ravi Prakash
■ सतनाम वाहे गुरु सतनाम जी।।
■ सतनाम वाहे गुरु सतनाम जी।।
*Author प्रणय प्रभात*
इंसान इंसानियत को निगल गया है
इंसान इंसानियत को निगल गया है
Bhupendra Rawat
भटक ना जाना मेरे दोस्त
भटक ना जाना मेरे दोस्त
Mangilal 713
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
रोबोटिक्स -एक समीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
18. कन्नौज
18. कन्नौज
Rajeev Dutta
माँ i love you ❤ 🤰
माँ i love you ❤ 🤰
Swara Kumari arya
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
जब कैमरे काले हुआ करते थे तो लोगो के हृदय पवित्र हुआ करते थे
Rj Anand Prajapati
मुझ को इतना बता दे,
मुझ को इतना बता दे,
Shutisha Rajput
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
जरूरत के हिसाब से सारे मानक बदल गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
संगत
संगत
Sandeep Pande
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरी चाहत हमारी फितरत
तेरी चाहत हमारी फितरत
Dr. Man Mohan Krishna
2598.पूर्णिका
2598.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
*चुनाव से पहले नेता जी बातों में तार गए*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
मैं तन्हाई में, ऐसा करता हूँ
gurudeenverma198
हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!
हमारी मंजिल को एक अच्छा सा ख्वाब देंगे हम!
Diwakar Mahto
"विषधर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...