Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

मंदिर बनगो रे

पाए आस्था हिलोर
मन हो गया विभोर
रामलल्ला का किलोल
भक्ति मारे सबकी जोर
सारे जग मे अब यह शोर
मंदिर बनगो रे , रे मंदिर बनगो रे

यह तो राम की है माया
अयोध्या को फिर चमकाया
प्रेम संदेशा हर घर पंहुचाया
भक्ति रस से है नहलाया
जय श्रीराम सबने गाया
मंदिर बनगो रे , रे मंदिर बनगो रे

आजादी की अमृत बेला
कैसा अद्भुत है यह मेला
कोई कैसे रहे अकेला
बढ़ता खुशियो का यह रेला
हो रहा राम राज बसेरा
मंदिर बनगो रे , रे मंदिर बनगो रे

गुबंज से उंचे संस्कार
प्रेम बांहे फैलाए विस्तार
गहरे ज्ञान सी बुनियाद
भव्य इसका है सत्कार
मिलजुल जीने की आवाज
मंदिर बनगो रे , रे मंदिर बनगो रे

राम नही बस एक नाम
मर्यादा मे जीने का भान
सही राह दिखाए भगवान
जिससे सब पाए सम्मान
और जिए सुख से हर इंसान
मंदिर बनगो रे , रे मंदिर बनगो रे

संदीप पांडे “शिष्य” अजमेर

2 Likes · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sandeep Pande
View all
You may also like:
■ भेजा फ्राई...【कन्फ्यूजन】
■ भेजा फ्राई...【कन्फ्यूजन】
*Author प्रणय प्रभात*
कवि की लेखनी
कवि की लेखनी
Shyam Sundar Subramanian
मौत
मौत
नन्दलाल सुथार "राही"
"जीत की कीमत"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ लोग
कुछ लोग
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
ना जाने क्यों तुम,
ना जाने क्यों तुम,
Dr. Man Mohan Krishna
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
खल साहित्यिकों का छलवृत्तांत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
सत्य सनातन गीत है गीता
सत्य सनातन गीत है गीता
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
तुम्हारे स्वप्न अपने नैन में हर पल संजोती हूँ
तुम्हारे स्वप्न अपने नैन में हर पल संजोती हूँ
Dr Archana Gupta
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
*निंदिया कुछ ऐसी तू घुट्टी पिला जा*-लोरी
Poonam Matia
Mathematics Introduction .
Mathematics Introduction .
Nishant prakhar
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
ड्रीम-टीम व जुआ-सटा
Anil chobisa
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
समंदर में नदी की तरह ये मिलने नहीं जाता
Johnny Ahmed 'क़ैस'
// प्रीत में //
// प्रीत में //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सूने घर में बूढ़े-बुढ़िया, खिसियाकर रह जाते हैं (हिंदी गजल/
*सूने घर में बूढ़े-बुढ़िया, खिसियाकर रह जाते हैं (हिंदी गजल/
Ravi Prakash
!! वीणा के तार !!
!! वीणा के तार !!
Chunnu Lal Gupta
सावन मे नारी।
सावन मे नारी।
Acharya Rama Nand Mandal
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
दिखता अगर फ़लक पे तो हम सोचते भी कुछ
Shweta Soni
National Energy Conservation Day
National Energy Conservation Day
Tushar Jagawat
हर हक़ीक़त को
हर हक़ीक़त को
Dr fauzia Naseem shad
राधा अब्बो से हां कर दअ...
राधा अब्बो से हां कर दअ...
Shekhar Chandra Mitra
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
तू मिला जो मुझे इक हंसी मिल गई
तू मिला जो मुझे इक हंसी मिल गई
कृष्णकांत गुर्जर
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
आजा रे अपने देश को
आजा रे अपने देश को
gurudeenverma198
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
वाचाल सरपत
वाचाल सरपत
आनन्द मिश्र
कर्मवीर भारत...
कर्मवीर भारत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...