Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

*मंत्री जी भी कभी किसी दिन, ई-रिक्शा पर बैठें तो (हिंदी गजल-

मंत्री जी भी कभी किसी दिन, ई-रिक्शा पर बैठें तो (हिंदी गजल-हास्य)
_________________________
1)
मरने वाले से नजदीकी, हद से ज्यादा गाते हैं
लंबी-लंबी फेंक रहे कुछ, करतब यों दिखलाते हैं
2)
मंत्री जी भी कभी किसी दिन, ई-रिक्शा पर बैठें तो
पता चले उनको गतिरोधक, कितना दुख पहुॅंचाते हैं
3)
भीड़ जुटी जब नेताओं के, आने पर श्रोताओं की
हमने पूछा उनसे कितने, रुपए लेकर आते हैं
4)
शायद कोई पद मिल जाए, बैठे-बैठे खाने को
चिंतन का कुछ ओढ़ लबादा, सत्ता-दल में जाते हैं
5)
बहुत बड़ा बदलाव सभी की, आदत में यह आया है
रिश्वत छिप कर खाते थे जो, रिश्वत खुलकर खाते हैं
6)
जाने कैसे पतझड़ वाले, मौसम आए बस्ती में
थाने और कचहरी के ही, चक्कर लोग लगाते हैं
—————————————-
गतिरोधक = सड़कों पर लगे हुए स्पीड ब्रेकर
—————————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा ,रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99 97615 451

57 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
छल छल छलके आँख से,
छल छल छलके आँख से,
sushil sarna
जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।
जीवन और मृत्यु के मध्य, क्या उच्च ये सम्बन्ध है।
Manisha Manjari
रामलला ! अभिनंदन है
रामलला ! अभिनंदन है
Ghanshyam Poddar
"" *माँ सरस्वती* ""
सुनीलानंद महंत
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
कवि रमेशराज
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Naseeb Jinagal Koslia नसीब जीनागल कोसलिया
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
समझदारी का न करे  ,
समझदारी का न करे ,
Pakhi Jain
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सोचो
सोचो
Dinesh Kumar Gangwar
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
Pyasa ke dohe (vishwas)
Pyasa ke dohe (vishwas)
Vijay kumar Pandey
जनता नहीं बेचारी है --
जनता नहीं बेचारी है --
Seema Garg
अब तो आओ न
अब तो आओ न
Arti Bhadauria
* खूब खिलती है *
* खूब खिलती है *
surenderpal vaidya
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
*धन्य कठेर रियासत राजा, राम सिंह का वंदन है (देशभक्ति गीत)*
*धन्य कठेर रियासत राजा, राम सिंह का वंदन है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
तुम्हारा जिक्र
तुम्हारा जिक्र
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
नारी शक्ति
नारी शक्ति
भरत कुमार सोलंकी
"साकी"
Dr. Kishan tandon kranti
आंखों में हया, होठों पर मुस्कान,
आंखों में हया, होठों पर मुस्कान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
बहुत अहमियत होती है लोगों की
बहुत अहमियत होती है लोगों की
शिव प्रताप लोधी
दिल तमन्ना कोई
दिल तमन्ना कोई
Dr fauzia Naseem shad
■ बड़ा सवाल...
■ बड़ा सवाल...
*प्रणय प्रभात*
2524.पूर्णिका
2524.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोहे
दोहे
गुमनाम 'बाबा'
Loading...