Oct 21, 2016 · 1 min read

भोगमें होगा अहम् तो भोग मिल जायेगा:: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट७४)

सारात्सार:: छंद घनाक्षरी क्रम ८/२१ राजयोगमहागीता
————————
भोग में होगा अहम् तो भोग मिल जायेगा ,मोक्ष में होगा अहम् तो मोक्ष मिल जायेगा ।
आपको सानंद यह जीवन जीने के लिए, सहज,सरस, राजयोग मिल जायेगा ।
जो ले चले साकार से निराकार की ही ओर ,गुरु से प्रदत्त
ज्ञानयोग| मिल| जायेगा ।
आपको ले चलेमृत्यु से अमरतत्व की ओर, आपको वो
आपका स्वरूप दिखलायेगा ।।८/२१!!

—– जितेंद्रकमल आनंद

84 Views
You may also like:
सच
Vikas Sharma'Shivaaya'
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ढह गया …
Rekha Drolia
संडे की व्यथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
प्यार के फूल....
Dr. Alpa H.
धरती की फरियाद
Anamika Singh
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
गरीब के हालात
Ram Krishan Rastogi
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
'बेदर्दी'
Godambari Negi
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H.
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!
Anamika Singh
कुएं का पानी की कहानी | Water In The Well...
harpreet.kaur19171
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
बुलन्द अशआर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
*कथावाचक श्री राजेंद्र प्रसाद पांडेय 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
ममत्व की माँ
Raju Gajbhiye
मुसाफिर चलते रहना है
Rashmi Sanjay
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
Loading...