Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें

भीगे अरमाॅ॑ भीगी पलकें
भीगा है मन बारिश में
भीगा आसमाॅ॑ भीगी धरा
भीगा है तन बारिश में —– भीगे अरमाॅ॑
घनघोर घटाएं गिर-घर आएं
हर्षित मन को खूब लुभाएं
भीगे पात पुष्प और कलियाॅ॑
भीगा गगन है बारिश में —- भीगे अरमाॅ॑
टप टप करती बूंदें करतल
पॅ॑छी गाते हैं यूॅऺ कल-कल
बहते हैं सब नदी और नाले
भीगा भवन है बारिश में —- भीगे अरमाॅ॑
चहूॅ॔ तरफ फैली हरियाली
महक रही है डाली डाली
तितली भ्रमर मचल उठे हैं
भीगा चमन है बारिश में —- भीगे अरमाॅ॑
ऐसे में मन हुआ है प्यासा
दिल में जगी है अभिलाषा
‘V9द’ पुकारे मीत अपने को
भीगा बदन है बारिश में —- भीगे अरमाॅ॑

2 Likes · 70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
वैशाख की धूप
वैशाख की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
अलसाई शाम और तुमसे मोहब्बत करने की आज़ादी में खुद को ढूँढना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*
*"माँ महागौरी"*
Shashi kala vyas
#नया_भारत 😊😊
#नया_भारत 😊😊
*प्रणय प्रभात*
पत्थर
पत्थर
Shyam Sundar Subramanian
मस्ती का त्योहार है,
मस्ती का त्योहार है,
sushil sarna
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
चंदा मामा सुनो मेरी बात 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*प्रीति के जो हैं धागे, न टूटें कभी (मुक्तक)*
*प्रीति के जो हैं धागे, न टूटें कभी (मुक्तक)*
Ravi Prakash
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
चुगलखोरों और जासूसो की सभा में गूंगे बना रहना ही बुद्धिमत्ता
Rj Anand Prajapati
जीत
जीत
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
3191.*पूर्णिका*
3191.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बड़े ही फक्र से बनाया है
बड़े ही फक्र से बनाया है
VINOD CHAUHAN
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
*कलम उनकी भी गाथा लिख*
Mukta Rashmi
बहारों कि बरखा
बहारों कि बरखा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वर्ल्ड रिकॉर्ड
वर्ल्ड रिकॉर्ड
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अरदास
अरदास
Buddha Prakash
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
मानवता का मुखड़ा
मानवता का मुखड़ा
Seema Garg
विजेता
विजेता
Sanjay ' शून्य'
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"Awakening by the Seashore"
Manisha Manjari
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
★Dr.MS Swaminathan ★
★Dr.MS Swaminathan ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
ಬನಾನ ಪೂರಿ
ಬನಾನ ಪೂರಿ
Venkatesh A S
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
"जब"
Dr. Kishan tandon kranti
कहो जय भीम
कहो जय भीम
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
बचपन
बचपन
Vedha Singh
Loading...