Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

भाषा

मूल मातृभाषी लोग,
अपनो ही से लुट गए,
उनकी अपनी ही भाषा दूसरों के बन गए,
उनकी बोली वीरान नहीं,
पर वह वहिष्कृत हो गए,
अविश्वासी भी बन गए,
माँ की भाषा उनकी अपनी है,
पर उसे पराई बना दिए गए ।

भाषाई चचेरे भाई,
सिर्फ अपनी ही बोली मानक बना दिए,
जन–जन उसकी भाषा नहीं समझता,
पर वही भाषिक लय–शैली सभी के बना दिए,
जन–मानक शैली वहिष्कृत है,
माँ की भाषा उनकी अपनी है,
पर उसे पराई बना दिए गए ।

भाषाओं का बंदरबांट,
इस नाम से दुकान भी खूब खुल गए,
भाषाई व्यापारी लूट मे व्यस्त बन गए,
मूल मातृभाषी की बोली यथास्थिति मे हैै,
वही उसे बचा भी रहा है,
माँ की भाषा उनकी अपनी है,
पर उसे पराई बना दिए गए ।

भाषा कनेक्टिविटी का माध्यम,
लोक संस्कृति और लोकगीत इसकी शाखाएँं,
नाटुवा बजानिया इसके प्रमोटर,
उनका पारंपरिक अंदाज गलत बनाए गए,
अपनी रोटी सेकने मे नटवरलाल लगे है,
माँ की भाषा भातृभाषी की अपनी है,
पर उसे पराई बना दिए गए ।

#दिनेश_यादव
काठमाण्डू (नेपाल)

Language: Hindi
1 Like · 80 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
View all
You may also like:
प्रियतमा
प्रियतमा
Paras Nath Jha
किसी नदी के मुहाने पर
किसी नदी के मुहाने पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
छोड़ दिया
छोड़ दिया
Srishty Bansal
"एक नज़र"
Dr. Kishan tandon kranti
11. *सत्य की खोज*
11. *सत्य की खोज*
Dr Shweta sood
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
कविता : नारी
कविता : नारी
Sushila joshi
everyone says- let it be the defect of your luck, be forget
everyone says- let it be the defect of your luck, be forget
Ankita Patel
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
दिल की जमीं से पलकों तक, गम ना यूँ ही आया होगा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बाबा साहब आम्बेडकर
बाबा साहब आम्बेडकर
Aditya Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
!! ये सच है कि !!
!! ये सच है कि !!
Chunnu Lal Gupta
मुकद्दर
मुकद्दर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
तू होती तो
तू होती तो
Satish Srijan
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
मेरे दिल ने देखो ये क्या कमाल कर दिया
shabina. Naaz
तल्खियां
तल्खियां
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
ये
ये "परवाह" शब्द वो संजीवनी बूटी है
शेखर सिंह
2458.पूर्णिका
2458.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हक़ीक़त का आईना था
हक़ीक़त का आईना था
Dr fauzia Naseem shad
*कोई भी ना सुखी*
*कोई भी ना सुखी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
दो कदम लक्ष्य की ओर लेकर चलें।
surenderpal vaidya
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
एक नम्बर सबके फोन में ऐसा होता है
Rekha khichi
इस दिल में .....
इस दिल में .....
sushil sarna
दिल में कुण्ठित होती नारी
दिल में कुण्ठित होती नारी
Pratibha Pandey
बुद्ध के संग अब जाऊँगा ।
बुद्ध के संग अब जाऊँगा ।
Buddha Prakash
बहुत कुछ बोल सकता हु,
बहुत कुछ बोल सकता हु,
Awneesh kumar
সিগারেট নেশা ছিল না
সিগারেট নেশা ছিল না
Sakhawat Jisan
Loading...