Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

* भाव से भावित *

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

* भाव से भावित *

तुम अगर किसी दृश्य को लेकर ।
इस तरह संजीदा न होते ।
भाव सुनहरे तुम्हारे भीतर ।
कभी यूं मुखरित न होते ।
दृश्य से प्रेरणा, प्रेरणा से प्रेरित ।
विचार व्यक्त करने में सक्षम न होते ।
झुकाव होना किसी दृश्य के प्रति ।
मानवीय मन की संवेदना की
अभिव्यक्ति को प्रकट करने की ।
कोमल प्रक्रिया है , अभीरूप है
प्रभु प्रदत्त ये ही सार्वजनिक आत्म रूप है
व्यक्तिगत रूप से जुड़े सूत्रों का उपयोग है ।
तुम मुझे फिर इतने दिल से प्रिय न होते ।
तुम अगर किसी दृश्य को लेकर ।
इस तरह संजीदा न होते ।
भाव सुनहरे तुम्हारे भीतर ।
कभी यूं मुखरित न होते ।
चाहिए भावों को एक प्रगतिशील ।
गठबंधन अनुभव दृश्यमानों का ।
विकसित हो जाता है जिससे प्रतिकर्षण ।
उत्कंठा के बासन्ती अभिमानों का ।
ये प्रतिकर्षण आनंदित करता है
मन का प्रतिपल संवर्धन ।
देता है कल्पनाओं को ।
प्रगतिशील व्योम अतिसुन्दर
तुम अगर किसी को लेकर ।
इस तरह संजीदा न होते ।
भाव तुम्हारे भीतर ।
यूं मुखरित न होते ।

202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
नाज़ुक सा दिल मेरा नाज़ुकी चाहता है
नाज़ुक सा दिल मेरा नाज़ुकी चाहता है
ruby kumari
कविता
कविता
Rambali Mishra
अंतिम पड़ाव
अंतिम पड़ाव
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
अपने अपने युद्ध।
अपने अपने युद्ध।
Lokesh Singh
नाना भांति के मंच सजे हैं,
नाना भांति के मंच सजे हैं,
Anamika Tiwari 'annpurna '
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
Paras Nath Jha
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
ये जो फेसबुक पर अपनी तस्वीरें डालते हैं।
Manoj Mahato
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
कर सकता नहीं ईश्वर भी, माँ की ममता से समता।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*हुई हम से खता,फ़ांसी नहीं*
*हुई हम से खता,फ़ांसी नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सपना
सपना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
मां तुम्हें सरहद की वो बाते बताने आ गया हूं।।
Ravi Yadav
मुक्तक
मुक्तक
Suryakant Dwivedi
1🌹सतत - सृजन🌹
1🌹सतत - सृजन🌹
Dr Shweta sood
शीर्षक:-आप ही बदल गए।
शीर्षक:-आप ही बदल गए।
Pratibha Pandey
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
Rj Anand Prajapati
बढ़ी शय है मुहब्बत
बढ़ी शय है मुहब्बत
shabina. Naaz
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
3296.*पूर्णिका*
3296.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
बैगन के तरकारी
बैगन के तरकारी
Ranjeet Kumar
"बहुत दिनों से"
Dr. Kishan tandon kranti
रामपुर में जनसंघ
रामपुर में जनसंघ
Ravi Prakash
जिंदगी
जिंदगी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
** वर्षा ऋतु **
** वर्षा ऋतु **
surenderpal vaidya
हैवानियत
हैवानियत
Shekhar Chandra Mitra
चाहत अभी बाकी हैं
चाहत अभी बाकी हैं
Surinder blackpen
Loading...