Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 1 min read

भाई हो तो कृष्णा जैसा

रक्षा बंधन विशेष—-

भाई हो कृष्णा जैसा
बहना की चाह रहा विश्वासों जैसा
भाई बहन का प्यार कृष्ना और सुभद्रा जैसा।।

बचपन की अठखेली ठिठोली
संग साथ जीवन की शक्ति जैसा
बहना की मर्यादा रक्षक सिंह काल
गर्जन जैसा।।

नन्ही परी बाबुल घर अंगना
भाई बड़ा या हो छोटा धूप
छांव में स्वर सम्बल जैसा।।

भाई बहना का रिश्ता जीवन की
सच्चाई का सच्चा रिश्ता
माँ बापू की प्यार परिवश भाई
की संस्कृतियों जैसा।।

भाई तो ऊम्मीद अरमंनो का मान
जीवन के संघर्षों में शत्र शास्त्र हथियारों जैसा ।।

भाई बहन का प्यार सांस्कार
अक्षय अक्षुण भाई धन्य धान्य
बहना अस्मत आभूषण जैसा।।

भाँवो के गागर का सागर भाई
बहना की खुशियां भाई बहना के
सुख दुःख में भाई दुनियां के मौलिक
मूल्यों जैसा।।

कच्चे धागे का बंधन रिश्तो का
अभिमान भाई बहन दुनियां में
दो दामन एक प्राण जैसा।।

भाई की कलाई पे बहना
कच्चे धागे को बांध जीवन आश्वस्त
जीवन की खुशियाँ उपहारों जैसा।।

भाई बहन का रिश्ता संकल्पों का
रिश्ता जीवन समाज स्वार्थ से ऊपर
जीवन के आदर्शो जैसा।।

बलदाऊ कृष्ण सुभद्रा जय
जगन्नाथ जग पालक के अविनि
जीवन की मर्यादाओं जैसा।।

नन्दलाल मणि त्रिपाठी पीतांम्बर गोरखपुर उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
104 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
यादों के छांव
यादों के छांव
Nanki Patre
सूरज को ले आता कौन?
सूरज को ले आता कौन?
AJAY AMITABH SUMAN
सब अपने दुख में दुखी, किसे सुनाएँ हाल।
सब अपने दुख में दुखी, किसे सुनाएँ हाल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कल चमन था
कल चमन था
Neelam Sharma
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
Sahil Ahmad
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
मुस्कुराए खिल रहे हैं फूल जब।
surenderpal vaidya
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
हमारा अपना........ जीवन
हमारा अपना........ जीवन
Neeraj Agarwal
बस कट, पेस्ट का खेल
बस कट, पेस्ट का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शक्तिहीनों का कोई संगठन नहीं होता।
शक्तिहीनों का कोई संगठन नहीं होता।
Sanjay ' शून्य'
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
उदात्त जीवन / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*गाओ  सब  जन  भारती , भारत जिंदाबाद   भारती*   *(कुंडलिया)*
*गाओ सब जन भारती , भारत जिंदाबाद भारती* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
ক্ষেত্রীয়তা ,জাতিবাদ
DrLakshman Jha Parimal
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
gurudeenverma198
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
ये दूरियां सिर्फ मैंने कहाँ बनायी थी //
गुप्तरत्न
!! आशा जनि करिहऽ !!
!! आशा जनि करिहऽ !!
Chunnu Lal Gupta
3245.*पूर्णिका*
3245.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जब तक हयात हो
जब तक हयात हो
Dr fauzia Naseem shad
फितरत या स्वभाव
फितरत या स्वभाव
विजय कुमार अग्रवाल
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
जिंदगी भर हमारा साथ रहे जरूरी तो नहीं,
जिंदगी भर हमारा साथ रहे जरूरी तो नहीं,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
हक हैं हमें भी कहने दो
हक हैं हमें भी कहने दो
SHAMA PARVEEN
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
Sarfaraz Ahmed Aasee
💐अज्ञात के प्रति-109💐
💐अज्ञात के प्रति-109💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"चोट्टे की दाढ़ी में झाड़ू की सींक
*Author प्रणय प्रभात*
"लक्ष्य"
Dr. Kishan tandon kranti
महादेव को जानना होगा
महादेव को जानना होगा
Anil chobisa
बेटा बेटी का विचार
बेटा बेटी का विचार
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...