Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2024 · 1 min read

भरोसा खुद पर

“भरोसा खुद पर”
भरोसा खुद पर हो तो हर मंजिल आसान है,
दूसरों के भरोसे चलने में नुकसान ही नुकसान है।
खुद पर रख भरोसा राही हर मंजिल पा जाते हैं,
कैसी भी आएं मुश्किलें उससे पार पा जाते हैं।
इस दुनिया आत्मनिर्भर बनकर जीने में ही भला है,
परभरोसे रहने वाले को सारी दुनिया ने छला है।
इसलिए भरोसा खुद पर रख सफर तय करना सही है,
फिर देखो तुम्हारी झोली में कौन सी मंजिल नहीं है।
खुद पर यकीन रखके जो तुम प्रतियोगिता में जाओगे,
देखो फिर हर चुनौती को तुम पूरा कर पाओगे।
खुद के हौसलों से सारी दुनिया जीत ली जाती है,
भरोसा नहीं हो खुद पर उसे असफलता ही हाथ आती है।
करो भरोसा खुद पर और जंग को कमर कस तैयार हो,
जीत निश्चित होगी तुम्हारी चाहे कितने ही गहरे वार हो।
खुद पर भरोसा करने के सब फायदे ही फायदे हैं,
यही दुनिया में सफल होने के सबसे जरूरी कायदे हैं।।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कैसी
कैसी
manjula chauhan
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
सम्मान से सम्मान
सम्मान से सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खिचड़ी,तिल अरु वस्त्र का, करो हृदय से दान
खिचड़ी,तिल अरु वस्त्र का, करो हृदय से दान
Dr Archana Gupta
ख़ुद लड़िए, ख़ुद जीतिए,
ख़ुद लड़िए, ख़ुद जीतिए,
*Author प्रणय प्रभात*
आजादी की चाहत
आजादी की चाहत
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
💐प्रेम कौतुक-357💐
💐प्रेम कौतुक-357💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
*हनुमान जी*
*हनुमान जी*
Shashi kala vyas
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
कभी फौजी भाइयों पर दुश्मनों के
ओनिका सेतिया 'अनु '
* माई गंगा *
* माई गंगा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाइकु haiku
हाइकु haiku
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"आसानी से"
Dr. Kishan tandon kranti
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
ईश ......
ईश ......
sushil sarna
डर के आगे जीत।
डर के आगे जीत।
Anil Mishra Prahari
3066.*पूर्णिका*
3066.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी को इस तरह भी
ज़िंदगी को इस तरह भी
Dr fauzia Naseem shad
मुझसे पूछा उसने तुमने मां पर भी कुछ लिखा
मुझसे पूछा उसने तुमने मां पर भी कुछ लिखा
कवि दीपक बवेजा
आज भी औरत जलती है
आज भी औरत जलती है
Shekhar Chandra Mitra
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
दुनिया का क्या दस्तूर बनाया, मरे तो हि अच्छा बतलाया
Anil chobisa
प्रकृति के फितरत के संग चलो
प्रकृति के फितरत के संग चलो
Dr. Kishan Karigar
मेरे   परीकल्पनाओं   की   परिणाम   हो  तुम
मेरे परीकल्पनाओं की परिणाम हो तुम
पूर्वार्थ
हिन्द के बेटे
हिन्द के बेटे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अमृतकलश
अमृतकलश
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
गाँधी जी की लाठी
गाँधी जी की लाठी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कोई कैसे अपने ख्वाईशो को दफनाता
कोई कैसे अपने ख्वाईशो को दफनाता
'अशांत' शेखर
उड़ान ~ एक सरप्राइज
उड़ान ~ एक सरप्राइज
Kanchan Khanna
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
*सरस्वती वन्दना*
*सरस्वती वन्दना*
Ravi Prakash
Loading...