Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

“बोलती आँखें”

बोलती आँखें
👁️ 👁️

सदा कुछ, तो ‘बोलती ऑंखें’;
कई राज को , खोलती ऑंखें;
ऑंखों से ही, खुशियां झलके;
गम में भी , ऑंखें ही छलके।

अपने भूले , रिश्तों को अगर;
ऑंखों पे , अपनापन दिखता;
दुश्मन से , दोस्ती में भी सदा;
ऑंखों में,सूनापन ही दिखता।

जब हम राहों से ,भटक जाते;
सत्य बोलने में , अटक जाते;
दिल कुछ कहे,व दिमाग कुछ;
तभी भी सत्य, बोलती ऑंखें।

जब ऑंखों में , इश्क बसी हो;
जिन्दगी , कहीं और फसी हो;
सबसे छुप- छुप के , मन डोले;
तब फिर, ऑंखें ही सदा बोले।

नयन से जो कभी भी,नैन लड़े;
ऑंखें चार,प्यारे शब्द बोल पड़े;
नयन की बात,जो हुई अनसुनी;
जो नयनों ने,काला चश्मा चुनी।

कभी बंद ऑंखें भी , बोलती है;
जब नींद में भी , वह डोलती है;
न जानो यह , अंदर की बात है;
सपने में , जैसा निज हालात है।

बच्चे भी, ऑंखों की भाषा जाने;
ऑंखों से ही वे,सब कहना माने;
माहौल हो जब , न हों मुख बातें;
तब फिर वहां पर,बोलती ऑंखें।
“°°°°°°°°°°°°°🙏°°°°°°°°°°°°°

स्वरचित सह मौलिक;
….. ✍️पंकज ‘कर्ण’
.. …कटिहार(बिहार)।

Language: Hindi
341 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
जो हैं आज अपनें..
जो हैं आज अपनें..
Srishty Bansal
जय श्री राम
जय श्री राम
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
गहरी हो बुनियादी जिसकी
गहरी हो बुनियादी जिसकी
कवि दीपक बवेजा
नयन
नयन
डॉक्टर रागिनी
A Little Pep Talk
A Little Pep Talk
Ahtesham Ahmad
*शुभकामनाऍं*
*शुभकामनाऍं*
Ravi Prakash
International Chess Day
International Chess Day
Tushar Jagawat
कोशिस करो कि दोगले लोगों से
कोशिस करो कि दोगले लोगों से
Shankar N aanjna
आदिपुरुष फ़िल्म
आदिपुरुष फ़िल्म
Dr Archana Gupta
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
ग़ज़ल
ग़ज़ल
कवि रमेशराज
"विपक्ष" के पास
*Author प्रणय प्रभात*
बारिश के लिए तरस रहे
बारिश के लिए तरस रहे
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-158के चयनित दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चोला रंग बसंती
चोला रंग बसंती
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
बारिश
बारिश
Sushil chauhan
* जगेगा नहीं *
* जगेगा नहीं *
surenderpal vaidya
सौदागर हूँ
सौदागर हूँ
Satish Srijan
मनमुटाव अच्छा नहीं,
मनमुटाव अच्छा नहीं,
sushil sarna
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
निराला जी पर दोहा
निराला जी पर दोहा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"संवेदना"
Dr. Kishan tandon kranti
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
मुंशी प्रेमचंद की जयंती पर उन्हें नमन।
Paras Nath Jha
माह सितंबर
माह सितंबर
Harish Chandra Pande
2749. *पूर्णिका*
2749. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
నేటి ప్రపంచం
నేటి ప్రపంచం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
तलाशता हूँ -
तलाशता हूँ - "प्रणय यात्रा" के निशाँ  
Atul "Krishn"
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
Loading...