Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2023 · 1 min read

बेवफा

शीर्षक वेवफा
वेवफा तुमसे प्रेम में स्वार्थ की शाम रहती है।
अपनी अपनी मन की सोच हम सभी की रहती है

जीवन में धन और दौलत की चमक वेवफा होती है।
हम सभी के मन भावों में तेरी चाहत रहती है।

सच वेवफा को जीवन में सूकुन नहीं होता है।
हम रंगमंच की कुदरत के सदा साथ चलते हैं।

नीरज साहित्य पीडिया संग वेवफा का सच लिखते हैं
सच जीवन में वेवफा की यादों के साथ चलता है

मन भावों में वेवफा और तेरा साथ रहता है।
जिंदगी बस सफर का नाम हमें निभानी होती है।

सच मन भावों में तेरे मेरे संग वेवफा की सोच रहती है
………………..सच नारी अधिकांशतः वेवफा की सोच रखती है।

Language: Hindi
146 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
’जूठन’ आत्मकथा फेम के हिंदी साहित्य के सबसे बड़े दलित लेखक ओमप्रकाश वाल्मीकि / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
इंसान में नैतिकता
इंसान में नैतिकता
Dr fauzia Naseem shad
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
कुछ तेज हवाएं है, कुछ बर्फानी गलन!
Bodhisatva kastooriya
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
जल उठी है फिर से आग नफ़रतों की ....
shabina. Naaz
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
वर्षा का भेदभाव
वर्षा का भेदभाव
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
इक धुँधला चेहरा, कुछ धुंधली यादें।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तू सीमा बेवफा है
तू सीमा बेवफा है
gurudeenverma198
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
तुम्हीं सुनोगी कोई सुनता नहीं है
DrLakshman Jha Parimal
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
बीती यादें भी बहारों जैसी लगी,
manjula chauhan
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
हालातों से हारकर दर्द को लब्ज़ो की जुबां दी हैं मैंने।
अजहर अली (An Explorer of Life)
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
अरमान गिर पड़े थे राहों में
अरमान गिर पड़े थे राहों में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
‘ विरोधरस ‘---9. || विरोधरस के आलम्बनों के वाचिक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---9. || विरोधरस के आलम्बनों के वाचिक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
सुंदरता हर चीज में होती है बस देखने वाले की नजर अच्छी होनी च
Neerja Sharma
हिकारत जिल्लत
हिकारत जिल्लत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नन्ही परी चिया
नन्ही परी चिया
Dr Archana Gupta
ये सर्द रात
ये सर्द रात
Surinder blackpen
नन्हा मछुआरा
नन्हा मछुआरा
Shivkumar barman
2585.पूर्णिका
2585.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
कतरनों सा बिखरा हुआ, तन यहां
Pramila sultan
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
Anil chobisa
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
प्रेमी चील सरीखे होते हैं ;
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*गुरु जी की मक्खनबाजी (हास्य व्यंग्य)*
*गुरु जी की मक्खनबाजी (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
Loading...