Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 2 min read

बेरोजगारी

बेरोजगारी

बेरोजगारी आज कुछ नही,
यह तो है, बस एक विचार।
युवाओं के अपने सपने पर,
यह तो है, बस एक प्रहार।।

सरकारी के चक्कर में सदा,
पूरा निजी मत यों त्यागिये।
जो भी मिल जाए पसंद का,
उससे, कभी मत भागिए।।

किसी भी पेशा को चुनिए,
हमेशा नौकरी मत ढूंढिए।
पेशा अपना पुश्त चलाए,
नौकरी वाले खुद भरे हाय।।

जो जन है, कोई पद धारक;
नही वो है, गैरो का उद्धारक।
उस जन-मन को सदा देखिए,
जो खुद, दस का है आहारक।।

सामर्थ्य से ज्यादा सोच ही,
घर – घर “बेरोजगारी” लाए।
उम्र पार, यों कर जाता जब,
सबको तब समझ में आए।।

जो खुद का कर ले आकलन,
घर परिवार रखे सही विचार।
बैठी ताहे, नौकरी पांव पसार,
मिले चाहे, छोटी-बड़ी प्रकार।।

जो नर , दिखावे को न माने,
चाहे नही कभी झूठा प्रभाव।
संतोष रखे जो, जीवन में सदा;
उसे, नौकरी का नही अभाव।।

काम कोई, छोटा बड़ा होता नही,
भाग्य कभी किसी का सोता नही।
औरों के काम को, जो देख जले,
“बेरोजगारी” का नाम, रोता वही।।

संगत अपना सदा ,सही रखिए;
“मेहनत”सदा पुरजोर कीजिए।
“बेरोजगारी” खुद दूर जायेगा;
अच्छे दिन जीवन में आयेगा।।

कड़ी मेहनत की रोटी तोड़िए,
खाइए चाहे, जो नून लगाए।
भोजन करिए सदा उतना ही,
जितना आपका पेट पचाए।।

किसी को बड़ा यों, मत मानिये,
चाहे जो कोई कितना कमाए।
खुद की इज्जत सदा कीजिए,
किसी के सामने, बिन शर्माये।।

अब बेरोजगारी का,राग न गाइए;
मन अपना, इतना प्रबल बनाइए।
खुद व्यस्त रहें, जीवन में सदापि;
पीढ़ी न देखे,बेरोजगारी कदापि।।
……………… ✍️

स्वरचित सह मौलिक
पंकज “कर्ण”
कटिहार।

Language: Hindi
1 Like · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
डा गजैसिह कर्दम
चल बन्दे.....
चल बन्दे.....
Srishty Bansal
मेरी नन्ही परी।
मेरी नन्ही परी।
लक्ष्मी सिंह
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
मैं हर महीने भीग जाती हूँ
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
No one in this world can break your confidence or heart unle
No one in this world can break your confidence or heart unle
Sukoon
जीवात्मा
जीवात्मा
Mahendra singh kiroula
राज्याभिषेक
राज्याभिषेक
Paras Nath Jha
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
रात भर इक चांद का साया रहा।
रात भर इक चांद का साया रहा।
Surinder blackpen
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अंतिम साँझ .....
अंतिम साँझ .....
sushil sarna
■ सीधी बात...
■ सीधी बात...
*Author प्रणय प्रभात*
लोकतंत्र का खेल
लोकतंत्र का खेल
Anil chobisa
शिमले दी राहें
शिमले दी राहें
Satish Srijan
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2735. *पूर्णिका*
2735. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बेदर्द ...................................
बेदर्द ...................................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
ईश्वर की कृपा दृष्टि व बड़े बुजुर्ग के आशीर्वाद स्वजनों की द
Shashi kala vyas
💐प्रेम कौतुक-434💐
💐प्रेम कौतुक-434💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कविता जो जीने का मर्म बताये
कविता जो जीने का मर्म बताये
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*कोटि-कोटि हे जय गणपति हे, जय जय देव गणेश (गीतिका)*
*कोटि-कोटि हे जय गणपति हे, जय जय देव गणेश (गीतिका)*
Ravi Prakash
नया दिन
नया दिन
Vandna Thakur
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हम ख़फ़ा हो
हम ख़फ़ा हो
Dr fauzia Naseem shad
हुनर
हुनर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
Loading...