Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jun 2023 · 1 min read

बेफिक्री की उम्र बचपन

बेफिक्री की उम्र होती है बचपन,
न पढ़ाई लिखाई का तनाव, और,
न ही खान पान की बंदिश,
न स्वास्थ्य की चिन्ता, और,
न ही पूजा-पाठ का नियम।
…………
बचपन में जो खाने को मिल गया,
ईश का प्रसाद ही कहलाया,
जो पहनने को मिल गया,
वह प्रभु का पटवस्त्र ही कहलाया,
जो तोतलाहट में बोल दिया,
वही ब्रह्म वाक्य कहलाया।
…………..
भोलेपन से भरपूर और,
ईर्ष्या द्वेष से कोसों दूर होता है,
बाल- बचपन जीवन,
इस जीवन में सभी प्यार करने वाले होते हैं,
जीवन में प्यार ही प्यार होता है ।
………………

बचपन में गुरु भी दोस्त बनकर आता है,जो,
पढ़ाता कम और प्यार ज्यादा लुटाता है,
नित नए -नए शिष्टाचार सिखलाता है, और,
जीवन को खुशियों से भर देता है।
…………
बचपन में शिक्षक अच्छे बुरे की पहचान कराता है,
जीवन के लक्ष्य को निर्धारित करता है,
जीवन को सफ़लता से जीने के गुर सिखलाता है,
बचपन की दहलीज को युवावस्था तक पहुंचाता है।

घोषणा – उक्त रचना मौलिक अप्रकाशित एवं स्वरचित है। यह रचना पहले फेसबुक पेज या व्हाट्स एप ग्रुप पर प्रकाशित नहीं हुई है।

डॉ प्रवीण ठाकुर,
भाषा अधिकारी,
निगमित निकाय भारत सरकार,
शिमला हिमाचल प्रदेश।

Language: Hindi
396 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शीर्षक - संगीत
शीर्षक - संगीत
Neeraj Agarwal
महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण
महाश्रृंङ्गार_छंद_विधान _सउदाहरण
Subhash Singhai
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
धीरे धीरे उन यादों को,
धीरे धीरे उन यादों को,
Vivek Pandey
यादें
यादें
Dr. Rajeev Jain
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
अनिल कुमार
* खूब खिलती है *
* खूब खिलती है *
surenderpal vaidya
घरौंदा
घरौंदा
Dr. Kishan tandon kranti
*सपनों का बादल*
*सपनों का बादल*
Poonam Matia
स्वप्न और वास्तव: आदतों, अनुशासन और मानसिकता का खेल
स्वप्न और वास्तव: आदतों, अनुशासन और मानसिकता का खेल
पूर्वार्थ
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
Sahil Ahmad
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr .Shweta sood 'Madhu'
■ नाकारों से क्या लगाव?
■ नाकारों से क्या लगाव?
*प्रणय प्रभात*
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
Kishore Nigam
आम आदमी की दास्ताँ
आम आदमी की दास्ताँ
Dr. Man Mohan Krishna
चले ससुराल पँहुचे हवालात
चले ससुराल पँहुचे हवालात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गुरु रामदास
गुरु रामदास
कवि रमेशराज
स्नेह - प्यार की होली
स्नेह - प्यार की होली
Raju Gajbhiye
ज़िंदगी हो
ज़िंदगी हो
Dr fauzia Naseem shad
मन किसी ओर नहीं लगता है
मन किसी ओर नहीं लगता है
Shweta Soni
*गठरी बाँध मुसाफिर तेरी, मंजिल कब आ जाए  ( गीत )*
*गठरी बाँध मुसाफिर तेरी, मंजिल कब आ जाए ( गीत )*
Ravi Prakash
"बेचारा किसान"
Dharmjay singh
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
आर.एस. 'प्रीतम'
प्रेम पीड़ा
प्रेम पीड़ा
Shivkumar barman
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
तीज मनाएँ रुक्मिणी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कभी लगे  इस ओर है,
कभी लगे इस ओर है,
sushil sarna
अजीब हालत है मेरे दिल की
अजीब हालत है मेरे दिल की
Phool gufran
हम बच्चे
हम बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
Loading...