Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

बेटी-पिता का रिश्ता

पापा से कहती है बेटी
मुझे स्टेशन छोड़ने आया न करो ,
आप अपने आंसुओं को छिपाते हो
मुझ से ही अपने नजर फेर कर
इस तरह से नजर घुमा कर
मंद मंद मुस्कुराया न करो
पापा आप मुझे छोड़ने स्टेशन आया न करो !!

घर की सारी जिम्मेदारी बखूबी निभाते
जरा सा भी खर्चा खुद पर नहीं करते ,
सोच सोच कर भी कितने सामान खरीदते ,
साईकल पर ही ऑफिस की दूरी तय करते
मुझ को मुट्ठी भर रुपये हथेली पर धरते
बस मेरे लिए कुछ भी कर सकते
पापा आप मुझे छोड़ने स्टेशन आया न करो !!

खाने पीने का सामान रखा कि नहीं
टिकट तो तुम अपनी कही भूली तो नही ,
बटुए में रास्ते के लिए खुले पैसे रखे या नही
हर बार पर फ़िक्र आप जताया न करो
पापा आप मुझे छोड़ने स्टेशन आया न करो !!

अपने हाथो से ट्रैन में सामान रख जाते
सत्ता सत्ता कर सारे बैग जमा जाते ,
अकेली जा रही हो बेटा अपना ध्यान रखना
पास बैठी महिला तक को समझा जाते
पापा आप हर पल इतनी चिंता जताया न करो
पापा आप मुझे छोड़ने स्टेशन आया न करो !!

पहुँच कर फोन कर देना
रास्ते में किसी से लेकर कुछ न खाना
ट्रैन से उत्तर का आराम से बस लेना
फिर अपने घर ऑटो रिक्शा से जाना
न जाने कितनी बातो से समझाया करते हो
कब आओगी दोबारा मिलने हमसे
यूं उदासी से सर पर हाथ फिराया न करो
पापा आप मुझे छोड़ने स्टेशन आया न करो !!

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
2 Likes · 598 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
भिनसार ले जल्दी उठके, रंधनी कती जाथे झटके।
PK Pappu Patel
कौन गया किसको पता ,
कौन गया किसको पता ,
sushil sarna
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
झिलमिल झिलमिल रोशनी का पर्व है
Neeraj Agarwal
"वो पूछता है"
Dr. Kishan tandon kranti
वह एक वस्तु,
वह एक वस्तु,
Shweta Soni
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
*प्राण-प्रतिष्ठा (दोहे)*
Ravi Prakash
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
दर्द देकर मौहब्बत में मुस्कुराता है कोई।
Phool gufran
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
अश्क तन्हाई उदासी रह गई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
क्रूरता की हद पार
क्रूरता की हद पार
Mamta Rani
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Sûrëkhâ Rãthí
वसंततिलका छन्द
वसंततिलका छन्द
Neelam Sharma
क्या है उसके संवादों का सार?
क्या है उसके संवादों का सार?
Manisha Manjari
Bikhari yado ke panno ki
Bikhari yado ke panno ki
Sakshi Tripathi
वफ़ा
वफ़ा
shabina. Naaz
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
15)”शिक्षक”
15)”शिक्षक”
Sapna Arora
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमारी दोस्ती अजीब सी है
हमारी दोस्ती अजीब सी है
Keshav kishor Kumar
मनुष्य तुम हर बार होगे
मनुष्य तुम हर बार होगे
Harish Chandra Pande
जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी
जीवन की सबसे बड़ी त्रासदी
ruby kumari
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
फिजा में तैर रही है तुम्हारी ही खुशबू।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
चातक तो कहता रहा, बस अम्बर से आस।
Suryakant Dwivedi
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
मोबाइल भक्ति
मोबाइल भक्ति
Satish Srijan
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...