Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

‘बेटी की विदाई’

‘बेटी की विदाई’
~~~~~~~~

अजीब क्षण,इस विदाई का;
गम है, ‘खुशी’ के जुदाई का;
खुशियां टपकती, आंसू बन;
हल्का होता , अब भारी मन;
हर आंखों में ही , अश्रु आई;
जब होती , ‘बेटी की विदाई’;
अब सूना-सूना, ही घर दिखे;
घर की रौनक जो, हुई पराई;
वक्त होता यह , बड़ा अजूबा;
नहीं है कहीं,बनावटी मंसूबा;
कोई यहां , हॅंसते-हॅंसते रोए;
कोई रोते-रोते ही , हॅंस जाए;
पर , सब निज आंसू छुपाए;
‘बेटी’,रो-रो कर होती बेहाल;
कि कैसे जाए , वो ‘ससुराल’;
हर कोई , उसे ढाढस बंधाते;
कोई, ‘पाहुन’को ही समझाते;
दिखे, ‘माता’ का अकेलापन;
‘पिता’ हॅंसते , छुपा सारे गम;
छोटी बहन भी , बैठी है मौन;
अब उसको , समझाए कौन;
बेचारे ‘भाई’ का, क्या कहना;
कौन , बात सुने अब उसकी;
ससुराल गई , उसकी ‘बहना’।
**********************

स्वरचित सह मौलिक;
…..✍️ पंकज ‘कर्ण’
………….कटिहार।।

Language: Hindi
177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
हमको जो समझें
हमको जो समझें
Dr fauzia Naseem shad
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
*यूँ आग लगी प्यासे तन में*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
आओ बुद्ध की ओर चलें
आओ बुद्ध की ओर चलें
Shekhar Chandra Mitra
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
होती नहीं अराधना, सोए सोए यार।
होती नहीं अराधना, सोए सोए यार।
Manoj Mahato
उड़ान ~ एक सरप्राइज
उड़ान ~ एक सरप्राइज
Kanchan Khanna
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
पूर्वार्थ
!! होली के दिन !!
!! होली के दिन !!
Chunnu Lal Gupta
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
सुना है फिर से मोहब्बत कर रहा है वो,
manjula chauhan
*अंजनी के लाल*
*अंजनी के लाल*
Shashi kala vyas
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
जो बीत गयी सो बीत गई जीवन मे एक सितारा था
Rituraj shivem verma
वीर बालिका
वीर बालिका
लक्ष्मी सिंह
थोपा गया कर्तव्य  बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
Seema Verma
काव्य का आस्वादन
काव्य का आस्वादन
कवि रमेशराज
नित्य प्रार्थना
नित्य प्रार्थना
Dr.Pratibha Prakash
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
Shweta Soni
"लोभ"
Dr. Kishan tandon kranti
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sharminda kyu hai mujhse tu aye jindagi,
Sakshi Tripathi
सियासी बातें
सियासी बातें
Shriyansh Gupta
“पतंग की डोर”
“पतंग की डोर”
DrLakshman Jha Parimal
नव वर्ष हमारे आए हैं
नव वर्ष हमारे आए हैं
Er.Navaneet R Shandily
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
वीरांगना महारानी लक्ष्मीबाई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
खुद की तलाश
खुद की तलाश
Madhavi Srivastava
जेसे दूसरों को खुशी बांटने से खुशी मिलती है
जेसे दूसरों को खुशी बांटने से खुशी मिलती है
shabina. Naaz
ए'लान - ए - जंग
ए'लान - ए - जंग
Shyam Sundar Subramanian
बिकाऊ मीडिया को
बिकाऊ मीडिया को
*Author प्रणय प्रभात*
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
दानवीरता की मिशाल : नगरमाता बिन्नीबाई सोनकर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
* रचो निज शौर्य से अनुपम,जवानी की कहानी को【मुक्तक】*
* रचो निज शौर्य से अनुपम,जवानी की कहानी को【मुक्तक】*
Ravi Prakash
Loading...