Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Feb 2017 · 1 min read

बेटियाँ

बेटी तो बेटी होती है वो जग से प्यारी होती है
फिर कष्ट उसे क्यों देते हो वो जग से न्यारी होती है

करती है रक्षा जीवन की सपनो की प्यारी होती है
खुशियों को सदा लुटातीं है फूलों की क्यारी होती है

वह प्यार सभी से करती है बनकर डाली फूलों की
उपवन को भी महकाती हैं बनकर क्यारी फूलों की

फिर क्यू चरित्र पर उसके ही सब दाग लगाये जाते है
रक्षा तो करना दूर ही रहा, अपमान कराये जाते है

बेटी की रक्षा करना तो अधिकार हमारा बनता है
जब सभी करेंगे कोशिश तो फिर प्यार सभी का बढ़ता है

जीवन पथ में कुछ करने को, आगे ही आना पड़ता है
अपनों के खातिर तो ये सिर ,अपना ही झुकना पड़ता है।

—विवेक तिवारी हरदोई

Language: Hindi
491 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
তুমি সমুদ্রের তীর
তুমি সমুদ্রের তীর
Sakhawat Jisan
*तितली (बाल कविता)*
*तितली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
AJAY PRASAD
युवा
युवा
Akshay patel
2322.पूर्णिका
2322.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आपका दु:ख किसी की
आपका दु:ख किसी की
Aarti sirsat
जो बातें अंदर दबी हुई रह जाती हैं
जो बातें अंदर दबी हुई रह जाती हैं
श्याम सिंह बिष्ट
वरदान है बेटी💐
वरदान है बेटी💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बारिश में नहा कर
बारिश में नहा कर
A🇨🇭maanush
पति
पति
लक्ष्मी सिंह
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
बेवजह ही रिश्ता बनाया जाता
Keshav kishor Kumar
यदि सफलता चाहते हो तो सफल लोगों के दिखाए और बताए रास्ते पर च
यदि सफलता चाहते हो तो सफल लोगों के दिखाए और बताए रास्ते पर च
dks.lhp
ए दिल मत घबरा
ए दिल मत घबरा
Harminder Kaur
डर
डर
अखिलेश 'अखिल'
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गीत
गीत
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
आँगन में एक पेड़ चाँदनी....!
singh kunwar sarvendra vikram
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
स्त्री मन
स्त्री मन
Surinder blackpen
नहीं जा सकता....
नहीं जा सकता....
Srishty Bansal
गुमनाम राही
गुमनाम राही
AMRESH KUMAR VERMA
चलो दूर चले
चलो दूर चले
Satish Srijan
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
*हूँ कौन मैं*
*हूँ कौन मैं*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेहिसाब सवालों के तूफान।
बेहिसाब सवालों के तूफान।
Taj Mohammad
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
इस्लामिक देश को छोड़ दिया जाए तो लगभग सभी देश के विश्वविद्या
Rj Anand Prajapati
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
कान्हा प्रीति बँध चली,
कान्हा प्रीति बँध चली,
Neelam Sharma
Loading...