Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

बेटियाँ

आज का दिन है जिनके नाम,हर घर की वो होती हैं शान।
बेटी पिता के दिल की है धड़कन,तो माँ का बेटी बढ़ाये मान।।
भाई के माथे तिलक लगा कर,भाई का करती है वो सम्मान।
बहन की बनती राजदार और, दुःख सुख का रक्खे वो ध्यान।।
शिक्षा के हर क्षेत्र में बेटियाँ ही तो, मात पिता का बढ़ाती हैं मान।
तोड़ पुरानी जंजीरों को ये बेटियाँ,रोशन कर रही हैं अपना भी नाम।।
मात पिता के संस्कार ले के बेटियाँ, ससुराल पति संग आ जाती हैं।
छोड़ के बाबुल के घर को ये बेटियाँ, खुशी खुशी अपने घर को अपनाती हैं।।
कल तक थी जो माँ की बेटी, अब वो खुद माँ बन जाती है।
मात पिता से मिले जो संस्कार, वो अब अपनी बेटी को सिखलाती है।।
कहे विजय बिजनौरी बेटियां ही, घर व समाज में हरेक रूप में छा जाती है।
सहनशक्ति और धैर्य का संगम,ये अपने हरेक रूप में दिखला पाती हैं।।

विजय कुमार अग्रवाल
विजय बिजनौरी

Language: Hindi
4 Likes · 187 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from विजय कुमार अग्रवाल
View all
You may also like:
'निशात' बाग का सेव (लघुकथा)
'निशात' बाग का सेव (लघुकथा)
Indu Singh
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
प्रिय मैं अंजन नैन लगाऊँ।
Anil Mishra Prahari
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
*दादी की बहादुरी(कहानी)*
Dushyant Kumar
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
अपने हुए पराए लाखों जीवन का यही खेल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
■ एक स्वादिष्ट रचना श्री कृष्ण जन्माष्टमी की पूर्व संध्या कान्हा जी के दीवानों के लिए।
■ एक स्वादिष्ट रचना श्री कृष्ण जन्माष्टमी की पूर्व संध्या कान्हा जी के दीवानों के लिए।
*प्रणय प्रभात*
चल‌ मनवा चलें....!!!
चल‌ मनवा चलें....!!!
Kanchan Khanna
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
हिंदू धर्म आ हिंदू विरोध।
Acharya Rama Nand Mandal
बीतते साल
बीतते साल
Lovi Mishra
माता- पिता
माता- पिता
Dr Archana Gupta
माँ
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*आजादी का अर्थ है, हिंदी-हिंदुस्तान (कुंडलिया)*
*आजादी का अर्थ है, हिंदी-हिंदुस्तान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मोहब्बत बनी आफत
मोहब्बत बनी आफत
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिससे मिलने के बाद
जिससे मिलने के बाद
शेखर सिंह
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
करगिल के वीर
करगिल के वीर
Shaily
मज़दूर दिवस
मज़दूर दिवस
Shekhar Chandra Mitra
महात्मा गांधी
महात्मा गांधी
Rajesh
माँ से मिलने के लिए,
माँ से मिलने के लिए,
sushil sarna
यहाँ तो मात -पिता
यहाँ तो मात -पिता
DrLakshman Jha Parimal
शीर्षक : बरसात के दिनों में (हिन्दी)
शीर्षक : बरसात के दिनों में (हिन्दी)
Neeraj Agarwal
मन का आंगन
मन का आंगन
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
‘ चन्द्रशेखर आज़ाद ‘ अन्त तक आज़ाद रहे
कवि रमेशराज
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब ना होली रंगीन होती है...
अब ना होली रंगीन होती है...
Keshav kishor Kumar
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
मां
मां
Irshad Aatif
उत्तर
उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
’शे’र’ : ब्रह्मणवाद पर / मुसाफ़िर बैठा
’शे’र’ : ब्रह्मणवाद पर / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...