Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 14, 2021 · 2 min read

बेजुबान और कसाई

बेजुबान और कसाई
~~~~~~~~~~~~~
(एक याचना)
बीच सड़क पर डटे,बेज़ुबान बकरे और कसाई,
हो रही थी मौनभाव में, अस्तित्व की लड़ाई ।
कसाई डोर खींच रहा, पर बकरे ने भी टांगे अड़ाई,
बेजुबान बकरे ने तब, मौनभाव में आवाज लगाई_

मृत्यपाश की डोर बांधकर ,
कहा ले जा रहे घातक अब तुम ?
बीच सड़क घिसियाते तन धन,
किसी अनहोनी से ग्रसित हूँ मैं तो,
तड़प रहा तन-मन,कण-कण।

मिमीयाते क्रन्दन स्वर में वो,
अटक-पटक धरा पर धर को।
प्राणतत्व किलोल रोककर,
प्रश्न अनुत्तरित मौनभंगिमा में,
करता अपने घातक हिय से _

मैं छाग बेजुबान छोटी सी काया,
भरमाती हमको न माया।
तृणपर्णों से क्षुधा मिटाती,
ना कोई अरमान सजाती,
मैं तो बुज़ हूं तुम क्यों बुज़दिल हो।

सुबह परसों जब नींद खुली थी,
देखा अपने देह गेह में।
वंचित था मैं मातृछाया से,
मन ही मन सिसकता तन मन।
छूटे मेरे प्राणसखा सब,
बिछुड़े मेरे उर के बांधव।

कल ही तेरे बालवृंद संग ,
प्रेम-ठिठोली की थी मैंने।
वो मेरे कंधे पर सर रख,
मौन की भाषा समझ रहा था।
दांत गड़ा मै उसे चिढाता,
वो मेरे फिर कान मचोड़ता।

उठापटक होता दोनों में,
वो मेरे फिर तन सहलाता।
प्यार की भाषा पढ़ते मिलकर,
आंख-मिचौली करते मिलकर,
कितना हर्षोल्लास का क्षण था।
स्नेहवृष्टि में दोनों भींगते,
शुन्य गगन आनन्द खोजते।

जुबां नहीं मेरे तन में है,
पर भाव नहीं तेरे से कम हैं।
देख रहा अब प्रभु दर्पण में,
अपने जीवन की परछाई को।
कतिपय अंत निकट जीवन का,
पूछ रहा फिर भी विस्मय से।

क्या तेरा मन नहीं आहत होता ?
मेरे प्राणों की बलि लेने से।
क्या तेरा तन नहीं विचलित होता ?
तड़पते तन में उठती आहों से।
माना व्याघ्र है निर्जन वन में,
तुम तो मनुज हो इस उपवन में।

पुछ तो आओ सुत स्नेहसखा से,
प्रेम सुधामयी उन कसमों को,
निर्दोष पलों की याद दिलाकर।
फिर प्राणों की आहुति लेना।।
तब तक मैं भी अपनी जिद में,
बैठा रहूंगा इस धरा पकड़कर ।

क्यों जिद है तुझे,मुझे हतने की,
वंश निर्मूल मेरा करने की।
छोड़ो अपनी जिद भी अब तुम,
बंधन तोड़ो मेरा अब तुम।
जब तुम मेरी पीड़ा समझोगे,
प्रभु भी तेरी पीड़ा समझेंगे।

जब तुम मेरी पीड़ा समझोगे,
प्रभु भी तेरी पीड़ा समझेंगे।

मौलिक एवं स्वरचित

© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – १४ /०७/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
घातक = हत्यारा
किलोल = खुशी का भाव
हिय = मन, ह्रदय
छाग = बकरा, बकरी का बच्चा
तृणपर्णों = घास, पत्तियाँ
बुज़ = बकरा, डरपोक
गेह = घर, रहने की जगह
उर = हृदय, छाती
बांधव = भाई बंधु
सुत = पुत्र
हतना = हत्या करना
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

12 Likes · 9 Comments · 3167 Views
You may also like:
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रकृति के कण कण में ईश्वर बसता है।
Taj Mohammad
कुछ ऐसे बिखरना चाहती हूँ।
Saraswati Bajpai
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
तब मुझसे मत करना कोई सवाल तुम
gurudeenverma198
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
मां ‌धरती
AMRESH KUMAR VERMA
✍️दम-भर ✍️
"अशांत" शेखर
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
*संस्मरण : श्री गुरु जी*
Ravi Prakash
आया सावन - पावन सुहवान
Rj Anand Prajapati
सुन्दर घर
Buddha Prakash
""वक्त ""
Ray's Gupta
चलो जिन्दगी को।
Taj Mohammad
(((मन नहीं लगता)))
दिनेश एल० "जैहिंद"
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
नीति प्रकाश : फारसी के प्रसिद्ध कवि शेख सादी द्वारा...
Ravi Prakash
फारसी के विद्वान श्री नावेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
क्या सोचता हूँ मैं भी
gurudeenverma198
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
सफलता की कुंजी ।
Anamika Singh
सफर
Anamika Singh
हम हैं
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
" ओ मेरी प्यारी माँ "
कुलदीप दहिया "मरजाणा दीप"
Loading...