Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2024 · 1 min read

बेचारी माँ

नौ माहों तक लिए उदर में, वह दिन-रात हुलसती थी।
बड़े चाव से पुत्रजन्म की, बाट जोहती रहती थी।
पड़े उदर में इधर-उधर करते, जब लात चलाते थे।
फूले हुए पेट का घेरा, थोड़ा और बढ़ाते थे।

थोड़ा चलकर, करवट ले, माँ, उसको भी सह लेती थी।
पीड़ा में वह हँस लेती थी, मंद-मंद मुस्काती थी।
रोते थे, गीला करते थे, रातों-रात जगाते थे।
छोटी-छोटी बातों पर ज़िद, करके शोर मचाते थे।

माँ समझाती थी बहलाकर, ऊँच-नीच समझाती थी।
जायज़ क्या नाजायज़ माँगों, को भी पूरा करती थी।
बड़े हुए हम माॅं की शिक्षा और सुरक्षा के कारण
आज मान सम्मान मिला जो, वह सब है माॅं के कारण

समय बीत जाता है झटपट, बच्चे युवा हो गये सब,
माॅं अब वृद्ध हुई, शक्तियाॅं क्षीण हो गईं उसकी अब,
बूढ़े होने पर माॅं को बच्चों का एक सहारा है,
बच्चों को भी माॅं का सुख, सम्मान बहुत अब रखना है

उॅंगली पकड़ कभी माॅं ने, हमको चलना सिखलाया था,
अब बच्चों को उस ममता का, असली मूल्य चुकाना है।

1 Like · 79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"चुनाव के दौरान नेता गरीबों के घर खाने ही क्यों जाते हैं, गर
गुमनाम 'बाबा'
"मत भूलना"
Dr. Kishan tandon kranti
" ख्वाबों का सफर "
Pushpraj Anant
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
क्या कहुं ऐ दोस्त, तुम प्रोब्लम में हो, या तुम्हारी जिंदगी
लक्की सिंह चौहान
महाकाल
महाकाल
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
🌸 मन संभल जाएगा 🌸
पूर्वार्थ
❤️एक अबोध बालक ❤️
❤️एक अबोध बालक ❤️
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तू याद कर
तू याद कर
Shekhar Chandra Mitra
बाट जोहती पुत्र का,
बाट जोहती पुत्र का,
sushil sarna
हकीकत
हकीकत
Dr. Seema Varma
बात तनिक ह हउवा जादा
बात तनिक ह हउवा जादा
Sarfaraz Ahmed Aasee
वह नही समझ पायेगा कि
वह नही समझ पायेगा कि
Dheerja Sharma
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
★भारतीय किसान★
★भारतीय किसान★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
■ कारण कुछ भी हो। भूल सुधार स्वागत योग्य।।
■ कारण कुछ भी हो। भूल सुधार स्वागत योग्य।।
*प्रणय प्रभात*
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
Neeraj Agarwal
2662.*पूर्णिका*
2662.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्या अब भी तुम न बोलोगी
क्या अब भी तुम न बोलोगी
Rekha Drolia
कट गई शाखें, कट गए पेड़
कट गई शाखें, कट गए पेड़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
मतदान दिवस
मतदान दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
हमारे अच्छे व्यवहार से अक्सर घृणा कर कोसते हैं , गंदगी करते
Raju Gajbhiye
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
इन्द्रिय जनित ज्ञान सब नश्वर, माया जनित सदा छलता है ।
लक्ष्मी सिंह
ग़ज़ल/नज़्म - न जाने किस क़दर भरी थी जीने की आरज़ू उसमें
ग़ज़ल/नज़्म - न जाने किस क़दर भरी थी जीने की आरज़ू उसमें
अनिल कुमार
आंखों को मल गए
आंखों को मल गए
Dr fauzia Naseem shad
*चम्मच पर नींबू रखा, डंडी मुॅंह में थाम*
*चम्मच पर नींबू रखा, डंडी मुॅंह में थाम*
Ravi Prakash
गाँव का दृश्य (गीत)
गाँव का दृश्य (गीत)
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...